चुनाव बीतते ही तृणमूल नेताओं पर जानलेवा हमले शुरू

चुनाव बीतते ही  तृणमूल नेताओं पर जानलेवा हमले शुरू
deadly-attack-on-trinamool-leaders-started-as-soon-as-elections-are-over

कोलकाता, 01 मई (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव बीत जाने के बाद राज्य भर में तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमले शुरू हो गए हैं। शनिवार तड़के तृणमूल कांग्रेस के एक नेता को उत्तर 24 परगना के भाटपाड़ा में पार्टी दफ्तर के अंदर गोली मार दी गई है। कार्यकर्ता का नाम नूरे जमानुल साहेब है। दावा है कि जब वह तृणमूल दफ्तर में था, तभी बाइक सवार तीन हमलावर आए, जिनके चेहरे पर नकाब था। बाइक सवारों ने जमानुल को लक्ष्य कर फायरिंग की। एक गोली उसके चेहरे पर और दूसरी गोली कंधे पर लगी है। हालांकि वह खतरे से बाहर है लेकिन उत्तर 24 परगना से कोलकाता लाकर अस्पताल में भर्ती किया गया है। ममता सरकार में मंत्री और राज्य के मशहूर अल्पसंख्यक नेता फिरहाद हकीम ने आरोप लगाया है कि चुनाव आयोग की विफलता और भारतीय जनता पार्टी के निर्देश पर ही हमले हुए हैं। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने वहां के पुलिस कमिश्नर को हटा दिया, कई अधिकारियों को हटाया। उसके बाद ही तृणमूल नेताओं पर हमले हो रहे हैं। सब कुछ भाजपा के इशारे पर हो रहा है। इधर बैरकपुर से सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि इस घटना से भाजपा का कोई लेना देना नहीं है। जिस तृणमूल नेता पर हमला हुआ है, वह गैरकानूनी तरीके से कंस्ट्रक्शन के कारोबार में जुड़ा हुआ है और उन लोगों के बीच आपस में पिछले कई दिनों से हिंसक घटनाएं हो रही हैं। इसी तरह से मालदा जिले के मानिकचक में भी तृणमूल कार्यकर्ताओं को धारदार हथियार से मौत के घाट उतारने की कोशिश हुई है। आरोप भारतीय जनता पार्टी और संयुक्त मोर्चा के कार्यकर्ताओं पर लगा है। आरोप है कि शुक्रवार रात ये दोनों कार्यकर्ता एक साथ बैठे थे, उसी समय हमलावरों ने इन पर धारदार हथियारों से हमला किया। दोनों को गंभीर हालत में मालदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उनकी हालत गंभीर है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश / प्रभात ओझा