किराया नहीं बढ़ा तो नहीं चलेंगी बस-मिनीबस, मालिक संगठन ने दी चेतावनी

किराया नहीं बढ़ा तो नहीं चलेंगी बस-मिनीबस, मालिक संगठन ने दी चेतावनी
bus-minibus-will-not-run-if-the-fare-is-not-increased-owner-organization-warned

रायगंज (उत्तर दिनाजपुर), 08 जून (हि. स.)। उत्तर दिनाजपुर बस मिनीबस ओनर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने कहा कि लॉकडाउन के बाद किराया नहीं बढ़ा तो बस-मिनीबस सेवा अनिश्चित रहेगी। संगठन ने मांग की है कि डीजल की कीमत में वृद्धि के अनुरूप, बस मिनीबस का किराया तुरंत बढ़ाया जाना चाहिए। टोल टैक्स देने वाले वाहनों के लिए अतिरिक्त कर किराया आवंटित किया जाना चाहिए या डीजल को जीएसटी के तहत लाया जाना चाहिए। मंगलवार को बस मिनीबस ओनर्स वेलफेयर एसोसिएशन द्वारा सभी निजी बस मिनी बसों पर स्टिकर लगाया गया है। इसमें लिखा है कि बस किराया बढ़ाने की मांग नहीं मानी गई तो सेवा अनिश्चित हो जाएगी। नतीजा होगा कि भले ही लॉकडाउन खत्म होते ही अनलॉक की अवधि शुरू हो जाएगी, लेकिन बस मालिकों ने स्पष्ट किया कि उनके लिए बस सड़क पर उतरना संभव नहीं होगा। करीब डेढ़ साल से लॉकडाउन और अनलॉक का दौर चल रहा है। कोरोना संक्रमण के डर से आम लोग की संख्या सड़कों पर ना के बराबर हैं। अनलॉक फेज में भले ही बसें सड़क पर हैं, लेकिन बस मालिक यात्रियों की कमी से दुखी हैं। इस बीच, पेट्रोल और डीजल की कीमत लगभग हर दिन बढ़ रही है। डीजल के दाम भले ही बढ़े हैं, लेकिन बसों और मिनी बसों का किराया नहीं बढ़ा है। डीजल की कीमतों में असामान्य वृद्धि ने बसों और मिनी बसों की ईंधन खपत में दो से तीन गुना की वृद्धि हुई है। बस मालिकों का आरोप है कि सरकार ने बस का किराया बढ़ाने के लिए कोई पहल नहीं की। नतीजतन निजी बस सेवा को एक तरह का नुकसान करके सेवा देनी पड़ रही हैं। ऐसे में बस मालिकों के कहना है कि अगर किराया नहीं बढ़ाया गया तो सड़क पर बसें चलाना संभव नहीं होगा। हिन्दुस्थान समाचार/सुगंधी/गंगा