राज्य में भाजपा का भविष्य "हाथ में लालटेन" की तरह : तथागत राय

राज्य में भाजपा का भविष्य "हाथ में लालटेन" की तरह : तथागत राय
bjp39s-future-in-the-state-like-quotlantern-in-handquot-tathagata-roy

कोलकाता, 02 मई (हि. स.)। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की मतगणना में तृणमूल कांग्रेस की तीसरी बार सरकार बनना लगभग निश्चित दिख रहा है। चुनाव परिणामों पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्य भाजपा के पूर्व अध्यक्ष तथागत राय ने कहा कि राज्य भाजपा का भविष्य "हाथ में लालटेन" की तरह है, बड़ी भयावह। रविवार को एक सवाल के जवाब में राय ने बेबाकी से कई लोगों के नाम लेकर उन्होंने कहा कि इतने लोगों को पकड़-पकड़ नाम लिखवाने की क्या जरूरत थी। सांगठनिक ढांचे में बहुत गड़बड़ी हुई है। बंगाल में भाजपा के भविष्य को लेकर उन्होंने कहा कि भाजपा का भविष्य अधर में है। यूं कहें कि राज्य भाजपा का भविष्य "हाथ में लालटेन" की तरह है। भाजपा में शामिल अनेक लोग फिर तृणमूल कांग्रेस में वापसी कर लेंगे। अनेक लोगों को झूठे मामले में फंसाया जाएगा। मुकुल राय के फिर से तृणमूल में वापसी की अटकलों के सवाल पर तथागत राय ने कहा कि ऐसा नहीं होगा क्योंकि उनके खिलाफ केन्द्रीय जांच ब्यूरो अभी भी जांच कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल का दायित्व समाप्त होने पर हमने राज्य में भाजपा के लिए काम करने की इच्छा व्यक्ति की लेकिन हमें रोक दिया गया। भाजपा नेता के प्रचार के लिए प्रकाशित साक्षात्कार में हरिपद भारती के बारे में उन्होंने अटपटा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि हमलोग हरिपद भारती का सम्मान करते हैं। इस तरह कई छोटी बड़ी गलतियां हुई है जिससे आज यह दिन देखना पड़ा है। बंगाल के उत्थान या पतन की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि 1962 साल के जुलाई में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ. विधानचंद्र राय की मौत हुई। इसके बाद से बंगाल की अवनति शुरू हुई। इसके पांच स्तर हैं।1962-67 के मुख्यमंत्री प्रफुल्ल चंद्र सेन के नेतृत्व में बदहाली, 1967-72 तक अराजकता छाई रही।1972-77 तक सिद्धार्थ शंकर राय के मुख्यमंत्री के कार्यकाल में उतना काम नहीं हो सका। वजह यह थी कि पार्टी आम आदमी तक नहीं पहुंच पाई। सेंट लारेंस के छात्र रहे तथागत राय ने इण्डियन रेलवे सर्विस कमीशन की परीक्षा में सफलता हासिल करने के बाद अनेक ऊंचे पदों पर काम किया है।1986 साल में उन्होंने आरएसएस का दामन थामा और 1990 में भाजपा में शामिल हो गए। वे 2003 से लेकर 2006 तक राज्य भाजपा के अध्यक्ष भी रहे। हिन्दुस्थान समाचार/गंगा