भाजपा छोड़कर तृणमूल में वापस लौटे दो नेता
भाजपा छोड़कर तृणमूल में वापस लौटे दो नेता
पश्चिम-बंगाल

भाजपा छोड़कर तृणमूल में वापस लौटे दो नेता

news

कोलकाता, 31 जुलाई (हि.स.)। जैसे-जैसे वर्ष 2021 का विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है, पश्चिम बंगाल में राजनीतिक सरगर्मी भी तेज है। लोकसभा चुनाव के बाद तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल हुए दक्षिण दिनाजपुर के पूर्व तृणमूल अध्यक्ष विप्लव मित्र और उनके भाई प्रशांत मित्र एक बार फिर भी तृणमूल कांग्रेस में वापस लौट आए हैं। शुक्रवार को प्रदेश तृणमूल मुख्यालय में शिक्षा मंत्री और पार्टी महासचिव पार्थ चटर्जी ने इन्हें तृणमूल कांग्रेस का झंडा थमाया है। पिछले लोकसभा चुनावों के बाद, विप्लव मित्रा ने मुकुल रॉय का हाथ पकड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। उनके साथ जिला परिषद के अध्यक्ष, जिला परिषद सदस्यों, पार्षदों और पंचायत सदस्यों का एक समूह था। बाद में, सांसद अर्पिता घोष दक्षिण दिनाजपुर में तृणमूल कांग्रेस की जिलाध्यक्ष बनीं। लेकिन एक साल और एक महीने के बाद, मित्र तृणमूल में लौट आए। तृणमूल में फिर से शामिल होने के बाद, मित्रा ने कहा कि तृणमूल के साथ एक अस्थायी अलगाव था। जो भी कारण हो। मैं बीच में भटक गया था और आज घर लौट आया। मैं साजिशकर्ताओं को जवाब दूंगा। हिन्दुस्थान समाचार /ओम प्रकाश/सुगंधी-hindusthansamachar.in