another-trinamool-mla-rebels-in-howrah
another-trinamool-mla-rebels-in-howrah
पश्चिम-बंगाल

हावड़ा में बागी हुए एक और तृणमूल विधायक

news

हावड़ा, 22 फरवरी (हि. स.)। अब हावड़ा जिले के सांकराइल से तृणमूल कांग्रेस विधायक शीतल सरदार ने मोर्चा खोल दिया है। मोर्चा खोलते ही उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ बयानबाजी की है। उन्होंने विधायकों के दलीय प्रेस कॉन्फ्रेंस के जिला नेतृत्व के खिलाफ नाराजगी जताई। 'बांग्ला अपनी बेटी को चाहती है', (बांग्ला निजे मेये के चाय) तृणमूल के इस नए स्लोगन-आधारित कार्यक्रम को लेकर सोमवार को जिला नेतृत्व की बैठक हुई। वहां शीतल सरदार ने पार्टी के खिलाफ बात की। उन्होंने दावा किया कि पार्टी के विधायक को जिले के किसी भी कार्यक्रम डोमुरजुला महासभा, रैली आदि में आमंत्रित नहीं किया जाता। यहां तक कि शीतल सरदार ने यह भी कहा कि उन रैलियों में अन्य विधायकों की मौजूदगी के बावजूद उन्हें नहीं बुलाया जाता। उन्होंने कहा कि कार्ड के साथ कोई निमंत्रण नहीं, बस एक फोन कॉल पर, चला आता। हालांकि जिला नेतृत्व ने उनके इन आरोपों को इनकार किया है। हावड़ा के जिला मंत्री और जिला तृणमूल के अध्यक्ष अरूप रॉय ने कहा कि हो सकता है वे सांकराइल एक ग्रामीण क्षेत्र में पड़ता है, इसलिए उसे नहीं बुलाया गया। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि वह क्या कह रहे है। वह ग्राम समिति में है। उसे सभी अवसरों पर उन्हें बुलाया जाता है। ये आरोप सत्य नहीं हैं। हावड़ा जिले को 2014 में विभाजित किया गया था। ग्रामीण पुलक रॉय देखते है। सभी को जिला कार्यालय से बुलाया गया है। लेकिन मुझे नहीं पता कि वह ऐसा क्यों कह रहा है। मैं उससे इस बारे में बात करूंगा। उल्लेखनीय है कि अरूप रॉय द्वारा पार्टी के झगड़े रोकने की बार-बार अफवाहों के बावजूद, मंत्री ब्रत्य बसु ने उन पर सांप्रदायिक झगड़ा का आरोप लगाया है। अभी दो दिन पहले ही मंत्री ब्रत्य बसु की दलीय सभा में, अरूप रॉय और उनके करीबी हावड़ा सदर के अध्यक्ष भास्कर भट्टाचार्य अनुपस्थित थे। जिसके साथ ब्रत्य बसु ने खुद अरुप की खुलेआम निन्दा की। उन्होंने कहा सबसे पहले टीम गेम है, यदि कोई अलगाव में खेलता है, तो जीतना बहुत मुश्किल है। हावड़ा एक ऐसा जिला है जिसमें एक के बाद एक मंत्री, विधायक तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए हैं। राजीव बनर्जी का नाम सबसे पहले आता है। उसके बाद बाली विधायक वैशाली डालमिया आते हैं। हावड़ा के पूर्व महापौर रथिन चक्रवर्ती भी भाजपा में शामिल होने वालों की सूची में हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुगंधी/गंगा

AD
AD