सितंबर के  दूसरे संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान  सूनी रहीं  सड़कें
सितंबर के दूसरे संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान सूनी रहीं सड़कें
पश्चिम-बंगाल

सितंबर के दूसरे संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान सूनी रहीं सड़कें

news

कोलकाता, 11 सितंबर (हि .स.)। पश्चिम बंगाल में इस महीने के दूसरे संपूर्ण लॉकडाउन का असर शुक्रवार को कोलकाता समेत राज्यभर की सड़कों पर देखने को मिला है। बहुत कम संख्या में लोग घरों से बाहर निकले हैं। गाड़ियां नदारद हैं और चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती है। इसके पहले गत 7 सितंबर को महीने का पहला संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था जिसका व्यापक असर देखने को मिला था। लॉक डाउन करने से पहले केंद्र से अनुमति लेने के आदेश के बावजूद पश्चिम बंगाल सरकार ने लॉकडाउन लगाया है। शुक्रवार सुबह के समय से ही लॉकडाउन की पूरी पाबंदियां लागू की गई हैं। कोलकाता समेत राज्य के हर छोटे-बड़े शहर में सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। इसकी वजह है कि पूरे राज्य में प्रशासन ने लॉकडाउन को लागू करने के लिए सख्ती बरतने का निर्देश दिया था। गुरुवार रात को ही जगह-जगह बैरिकेडिंग की गई थी। पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने कुछ खास दिनों पर प्रदेश में सम्पूर्ण लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया है। सरकार के लॉकडाउन रखने की योजना के तहत यहां सभी दुकानें बंद हैं और परिवहन के सभी साधन भी सड़कों से नदारद दिखे। कोलकाता पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महानगर में लॉकडाउन की पाबंदियां सुनिश्चित करने के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती की गई है। प्रदेश के कुछ हिस्सों में वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन के बीच सप्ताह में कुछ खास दिनों पर सम्पूर्ण लॉकडाउन को लागू करने का कदम उठाया गया है। पुलिस के विशेष दल शहर के विभिन्न हिस्सों में, खासकर कन्टेन्मेंट जोन में गश्त लगा रहे हैं। अकेले राजधानी कोलकाता में 8000 से अधिक पुलिसकर्मियों की तैनाती हुई है ताकि पाबंदियां सुनिश्चित की जा सकें। लोगों को घरों और उनके इलाके से निकलने से रोकने के लिए राज्य के विभिन्न हिस्सों में अवरोधक भी लगाए गए हैं। आपातकालीन सेवाओं के अलावा सरकारी और निजी, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, सार्वजनिक और निजी परिवहन व अन्य सभी गतिविधियां बंद हैं। महानगर में लॉकडाउन का पालन सुनिश्चित करने के लिए सभी संभागों में ड्रोन उड़ाए जा रहे हैं ताकि सड़कों पर मौजूदा स्थिति के बारे में निगरानी रखी जा सके। इसके अलावा ट्रैफिक पुलिस के कैमरों का इस्तेमाल भी लालबाजार स्थित पुलिस मुख्यालय से की जा रही है। निगरानी कक्ष में बैठे पुलिस के अधिकारी महानगर के चप्पे-चप्पे पर हालात पर नजर रख रहे हैं। कोलकाता के सीमावर्ती बाजारों पर भी पुलिस ने पैनी नजर रखी है ताकि लॉकडाउन की पाबंदियों को तोड़ा ना जा सके। कोलकाता के अलावा हावड़ा, हुगली, उत्तर और दक्षिण 24 परगना तथा राज्य के अन्य हिस्सों में भी बाजार दुकान बंद हैं और सड़कें सूनी हैं। वैसे तो सितंबर महीने में भी कुछ खास दिनों पर पश्चिम बंगाल सरकार ने संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है। 12 सितंबर को भी लॉक डाउन का ऐलान किया गया था लेकिन 13 तारीख को नीट की परीक्षा को देखते हुए म मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक दिन पहले ही 12 सितंबर के लॉकडाउन को रद्द करने की घोषणा की है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/मधुप-hindusthansamachar.in