सिख जवान बलविंदर के परिजनों ने की राज्यपाल से मुलाकात, लगाई न्याय की गुहार
सिख जवान बलविंदर के परिजनों ने की राज्यपाल से मुलाकात, लगाई न्याय की गुहार
पश्चिम-बंगाल

सिख जवान बलविंदर के परिजनों ने की राज्यपाल से मुलाकात, लगाई न्याय की गुहार

news

कोलकाता, 14 अक्टूबर (हि.स.)। भाजपा के नवान्न अभियान के दौरान गत 8 जून को पुलिस के बल प्रयोग का शिकार होकर सुर्खियों में आये सिख सुरक्षा कर्मी बलविंदर सिंह की पत्नी कर्मजीत कौर और बेटे हर्षवीर ने बुधवार को राजभवन में राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की। दोनों ने गत आठ अक्टूबर को सचिवालय घेराव के दौरान बलविंदर सिंह के साथ बंगाल पुलिस की बर्बरता और पगड़ी गिराए जाने के मामले में न्याय की गुहार लगाई है। अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह द्वारा भेजा गया एक प्रतिनिधिमंडल भी बलविंदर की पत्नी और बेटे के साथ मौजूद था। इस बारे में जिक्र करते हुए राज्यपाल ने बुधवार शाम ट्विटर पर लिखा है कि जब बलविंदर सिंह की पत्नी और बेटे ने न्याय की गुहार लगाई तो मैं बहुत परेशानी में था। मैं ममता प्रशासन से राज्य पुलिस और गृह विभाग के अन्याय का खंडन करने का आग्रह करूंगा। एक अन्य ट्वीट में, धनखड़ ने लिखा कि राज्य शिकायतकर्ता के पक्ष में होना चाहिए, मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामले में अभियुक्त नहीं। राज्य को तुरंत बलविंदर सिंह की घटना का समाधान करना चाहिए। समग्र रूप से समाज के लिए संवेदनशील प्रणाली अच्छी होगी। यहां उल्लेख किया जा सकता है कि राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने ममता प्रशासन को एक नोटिस भेजकर बलविन्दर सिंह के उत्पीड़न के बारे में रिपोर्ट मांगी थी। पत्र की एक प्रति राज्य पुलिस महानिदेशक को भी भेजी गई है। भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने बलविंदर सिंह के साथ हुई बर्बरता की तस्वीरें सोशल साइट पर डालते हुए लिखा है कि जिस तरह से ममता सरकार ने पगड़ी गिराकर एक सिख सुरक्षाकर्मी का अपमान किया और उसके बालों को खींचा वह 1984 के सिख नरसंहार की याद ताजा कर दी। देश की आजादी में सिखों ने सबसे ज्यादा बलिदान दिया है। जिस सरकार ने उनके साथ ऐसा व्यवहार किया, उन्हें एक मिनट भी सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/मधुप-hindusthansamachar.in