महालया पर ममता ने कहा : सावधानी जरूरी, पर भक्ति  भावना कम ना हो
महालया पर ममता ने कहा : सावधानी जरूरी, पर भक्ति भावना कम ना हो
पश्चिम-बंगाल

महालया पर ममता ने कहा : सावधानी जरूरी, पर भक्ति भावना कम ना हो

news

कोलकाता, 17 सितंबर (हि.स.)। दुर्गा पूजा के मौसम की शुरुआत माने जाने वाले महालया के मौके पर शुभकामना देते हुए ममता बनर्जी ने लोगों को सावधानी से पूजा करने और महामारी से बचाव के लिए एहतियाती कदम उठाने की नसीहत दी है। गुरुवार को सीएम ने ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि महालया के पावन मौके पर मैं सभी लोगों को अपनी शुभकामनाएं व्यक्त कर रही हूं। हालांकि महामारी का समय है और हम त्योहारों को किस तरह से मनाएंगे यह सोच समझकर चलना होगा लेकिन दुर्गा पूजा की भावना किसी भी तरह से कम नहीं होनी चाहिए। जरूरी है कि हर घर पूजा की रोशनी से रोशन हो। संकट के समय में मैं सभी लोगों से आह्वान कर रही हूं कि सारे लोग एक दूसरे के साथ मिलकर सबकी मदद करें और पूजा के दौरान सबका ख्याल रखें। जरूरी है कि हम खुशियां बांटे। सभी को महालया की शुभकामनाएं। महालया से दुर्गा पूजा की शुरुआत हो जाती है। बंगाल के लोगों के लिए महालया का विशेष महत्व है और वह साल भर इस दिन की प्रतीक्षा करते हैं। महालया के साथ ही जहां एक तरफ श्राद्ध खत्म हो जाते हैं वहीं मान्यताओं के अनुसार इसी दिन मां दुर्गा कैलाश पर्वत से धरती पर आगमन करती हैं और अगले 10 दिनों तक यहीं रहती हैं लेकिन इस साल ऐसा नहीं हो पा रहा है। इस साल होने वाली दुर्गापूजा कुछ अलग हटकर होगी। आम तौर पर महालया के दूसरे दिन यानी पितर तर्पण के बाद से देवी पाठ की शुरुआत हो जाती है लेकिन इस साल महालया के एक माह के बाद यानी 17 अक्टूबर से दुर्गापूजा की शुरुआत होगी। वहीं विजयादशमी 26 अक्टूबर को है। हर वर्ष महालया, सर्व पितृ अमावस्या के दिन होता है। सर्व पितृ अमावस्या और महालया इस बार 17 सितंबर (गुरुवार) को है। पश्चिम बंगाल में इस दिन का खास महत्व है। इस दिन सुबह सुबह आकाशवाणी पर महिषासुरमर्दिनि का पाठ बिरेंद्र कृष्ण भद्र की आवाज में होता है जिसे सुनने के लिए लोग साल भर इंतजार करते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/मधुप-hindusthansamachar.in