बिहार से चुराकर बंगाल लाए गए 21 बच्चे बरामद, तीन गिरफ्तार
बिहार से चुराकर बंगाल लाए गए 21 बच्चे बरामद, तीन गिरफ्तार
पश्चिम-बंगाल

बिहार से चुराकर बंगाल लाए गए 21 बच्चे बरामद, तीन गिरफ्तार

news

कोलकाता, 07 सितंबर (हि. स.)। कोलकाता पुलिस लॉक डाउन के दौरान 21 बच्चों को तस्करों से बचाया है। सोमवार को यह जानकारी कोलकाता पुलिस के संयुक्त आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मैदान थाने की टीम ने सूचना मिलने पर छापेमारी कर तीन तस्करों को दबोचा जिनके चंगुल से 21 बच्चों को बचाया। बिहार से आ रही एक बस से इन बच्चों सो बताया गया है। कोलकाता पुलिस के जांचकर्ताओं का दावा है कि बाल तस्करी के पीछे एक बड़ा गिरोह है। शुरू में पता चला कि बच्चों को बिहार से कोलकाता के रास्ते मंबई ले जाया जाना था जहां से, कई लोग पश्चिम एशिया के विभिन्न देशों में तस्करी कर रहे थे। वे मुख्य रूप से 'बंधुआ मजदूरी' या विभिन्न कारखानों और उद्यानों में भेजे जाते हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार, एक स्वैच्छिक संगठन से प्राप्त जानकारी के आधार पर सोमवार सुबह बाबूघाट पर बिहार से आ रही एक बस की तलाशी ली गई। नाबालिगों के साथ कोई अभिभावक नहीं थे। 21 नाबालिगों के अलावा, बस में 12-15 वयस्क थे। शुरुआत में, पुलिस को पता चला कि युवकों को हावड़ा में एक कारखाने में काम करने के लिए लाया गया था। तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनके नाम हैं -मोहम्मद चांद, मोहम्मद अज़ान और मोहम्मद अफ़ज़ल तीनों ही बच्चों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने के लिए जिम्मेदार थे। इनमें से प्रत्येक बच्चा बिहार के समस्तीपुर का निवासी है। इनकी आयु 12 से 15 वर्ष के बीच है। तस्करों से पूछताछ जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश/गंगा-hindusthansamachar.in