बंगाल में कांग्रेस ने बढ़ाई सक्रियता, प्रचार के लिए राहुल-प्रियंका को भेजा न्यौता
बंगाल में कांग्रेस ने बढ़ाई सक्रियता, प्रचार के लिए राहुल-प्रियंका को भेजा न्यौता
पश्चिम-बंगाल

बंगाल में कांग्रेस ने बढ़ाई सक्रियता, प्रचार के लिए राहुल-प्रियंका को भेजा न्यौता

news

कोलकाता, 23 दिसम्बर (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में अस्तित्व संकट से जूझ रही कांग्रेस के पक्ष में प्रचार करने के लिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी आ सकते हैं। प्रदेश कांग्रेस सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी है। खबर है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और मुर्शिदाबाद के बरहमपुर से सांसद अधीर रंजन चौधरी ने पत्र लिखकर दोनों को चुनाव प्रचार के लिए आने का न्यौता दिया है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता चौधरी ने कहा है कि बंगाल में पार्टी की सांगठनिक मजबूती और कार्यकर्ताओं को उत्साहित करने के लिए राहुल व प्रियंका का दौरा काफी सहायक होगा। 2021 के विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा का विकल्प बनने के लिए कांग्रेस ने वाममोर्चा के साथ गठबंधन किया है। अधीर लगातार कहते रहे हैं कि बंगाल में तृणमूल का विकल्प केवल माकपा-कांग्रेस गठबंधन होगा। दरअसल, बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बाद अब कांग्रेस ने बंगाल विधानसभा चुनाव पर ध्यान केंद्रित किया है। बंगाल कांग्रेस के केंद्रीय प्रभारी जितिन प्रसाद लगातार बंगाल दौरा कर रहे हैं और पार्टी कार्यकर्ताओं को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच बंगाल में राहुल गांधी और प्रियंका के बंगाल सफर को लेकर अटकलें तेज हो गयी हैं, हालांकि औपचारिक रूप से अभी दौरे की पुष्टि नहीं हुई है। इस बीच अधीर ने जिलाें का दौरा तेज कर दिया है। अधीर विभिन्न जिलों में जाकर सभा और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं। विशेष कर अल्पसंख्यकों के साथ कांग्रेस नेताओं ने अपनी मुलाकात बढ़ा दी है। कभी मुर्शिदाबाद और मालदह कांग्रेस का गढ़ माना जाता था, लेकिन शुभेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने के बाद कांग्रेस ने मुर्शिदाबाद और मालदह में फिर अपनी पकड़ मजबूत बनाने में जुट गयी है। हाल में अधीर ने फुरफुरशरीफ जाकर अब्बास सिद्दीकी के साथ मुलाकात की थी। बुधवार को कांग्रेस के अल्पसंख्यक मोर्चा का कोलकाता के रामलीला मैदान में एक कन्वेंशन का आयोजन किया गया है। दूसरी ओर, 2016 के विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस और माकपा 2021 में भी गठबंधन में चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। हालांकि 2016 के विधानसभा चुनाव में गठबंधन का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था, लेकिन कांग्रेस और माकपा गठबंधन में चुनाव लड़ने के कारण बंगाल में त्रिकोणिय मुकाबला होने की संभावना है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/सुगंधी-hindusthansamachar.in