चितरंजन कैंसर अस्पताल पर लगा रोगी को परेशान करने का आरोप
चितरंजन कैंसर अस्पताल पर लगा रोगी को परेशान करने का आरोप
पश्चिम-बंगाल

चितरंजन कैंसर अस्पताल पर लगा रोगी को परेशान करने का आरोप

news

कोलकाता, 15 अक्टूबर (हि.स.)। कोरोना संकट के समय रोगियों के परिजनों को परेशान करने के आरोप कई राजकीय अस्पतालों पर लगते रहे हैं। अब कोलकाता के मशहूर चितरंजन कैंसर अस्पताल पर भी इसी तरह का आरोप गुरुवार को लगा है। बताया गया है कि रिंकू भौमिक (37) नामक महिला जो न्यू अलीपुर की निवासी है, उनको पिछले कई दिनों से पीठ में दर्द के बाद चितरंजन कैंसर अस्पताल में भर्ती किया गया। डॉक्टरों ने जांच करने के बाद दावा किया था कि उसे स्तन कैंसर है। उसके बाद से वह महिला कोरोना पॉजिटिव हो गयी थी। बाद में स्वस्थ होने के बाद वह एक बार फिर चितरंजन कैंसर अस्पताल में इलाज के लिए पहुंची। तब अस्पताल की ओर से कहा गया कि उसकी हालत गंभीर है और उसे किमो देने की जरूरत है। उसके बाद बुधवार से वह लगातार अस्पताल जा रही थी लेकिन उसे कोई तारीख नहीं बताया जा रहा था। गुरुवार को फिर अस्पताल पहुंची लेकिन चिकित्सकों ने उसे कोई तारीख नहीं बताई। इसके बाद से रोगी के परिजनों ने जमकर हंगामा किया। उनका कहना है कि एक मरीज जो कैंसर से पीड़ित है, कोरोना से पीड़ित हो चुकी हैं, उसे बार-बार इस तरह से बुला कर डेट नहीं देना, उसे जानबूझकर परेशान करने के लिए किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/सुगंधी/मधुप-hindusthansamachar.in