अगले सप्ताह शुरू होगी विस चुनावों के लिए सीट-बंटवारे पर वाम-कांग्रेस वार्ता
अगले सप्ताह शुरू होगी विस चुनावों के लिए सीट-बंटवारे पर वाम-कांग्रेस वार्ता
पश्चिम-बंगाल

अगले सप्ताह शुरू होगी विस चुनावों के लिए सीट-बंटवारे पर वाम-कांग्रेस वार्ता

news

कोलकाता, 14 अक्टूबर (हि.स.)। वाम दलों और कांग्रेस के बीच 2021 पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर बातचीत अगले सप्ताह शुरू होगी। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने बुधवार को यह जानकारी दी। कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, "यह समय है कि इस गठबंधन को अपने तार्किक निष्कर्ष पर आगे बढ़ाया जाए और चुनावों के लिए सीटों का बंटवारा किया जाए। प्रारंभिक वार्ता अगले सप्ताह शुरू होगी। उन्होंने कहा, "टीएमसी और भाजपा राज्य को सांप्रदायिक आधार पर ध्रुवीकृत करने की कोशिश कर रहे हैं, और यह वाम और कांग्रेस का कर्तव्य है कि वे तीसरा विकल्प प्रदान करें।" उन्होंने कहा दोनों पक्ष अगले साल अप्रैल-मई में होने वाले चुनावों के लिए बातचीत शुरू करना चाहते हैं ताकि किसी असमंजस स्थिति से बचा जा सके। चौधरी ने कहा, "अभी बातचीत शुरू की जा रही है ताकि अंतिम समय में कोई समस्या न हो। हमने 2016 के विधानसभा चुनावों के लिए एक सीट-साझाकरण सौदा किया लेकिन यह आधे-अधूरे थे। 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान हम गठबंधन नहीं कर सके थे। वार्ता अंतिम समय में विफल रही। वाम-कांग्रेस ने 2016 में 294 सदस्यीय विधानसभा में 76 सीटें हासिल कीं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद प्रदीप भट्टाचार्य, जो चौधरी और राज्य के विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान के साथ नवगठित समन्वय समिति के अध्यक्ष हैं, वाम दलों के साथ वार्ता का नेतृत्व करेंगे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, "पार्टी के जिलाध्यक्षों और राज्य समिति के पदाधिकारियों को अपने जिलों में संगठन की ताकत और कमजोरी के बारे में रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है।" माकपा सूत्रों ने कहा कि वाम मोर्चा अध्यक्ष बिमान बोस ने हाल ही में चौधरी के साथ फोन पर बातचीत कर वार्ता को जल्द से जल्द शुरू करने का आग्रह किया था। एक ट्वीट में चौधरी ने कांग्रेस और वाम मोर्चा नेताओं से गठबंधन के खिलाफ फैलाए जा रहे "अफवाहों" पर ध्यान नहीं देने का आग्रह किया। उन्होंने कहा, "अगले चुनाव में, वाम-कांग्रेस गठबंधन बंगाल में सरकार बनाने के लिए टीएमसी और भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ेगा। विभिन्न तरीकों से गठबंधन को लेकर भ्रम पैदा करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन पर ध्यान न दें।' उल्लेखनीय है कि राज्य में टीएमसी सरकार और केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार का विरोध करते हुए वामपोर्चा और कांग्रेस ने कई मुद्दों पर पिछले एक साल में एक साथ सड़कों पर प्रदर्शन किया। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश/सुगंधी-hindusthansamachar.in