भंग्यूल के ग्रामीणों बैराज के ऊपर से गुजरने की अनुमति

भंग्यूल के ग्रामीणों बैराज के ऊपर से गुजरने की अनुमति
villagers-of-bhanguel-allowed-to-pass-over-the-barrage

जोशीमठ, 22 मई (हि.स.)। भंग्यूल गांव को आवाजाही से जोड़ने वाला अस्थाई पुल भारी बरसात की भेंट चढ़ गया। ग्रामीणों को फिलहाल बैराज के ऊपर से जाने की अनुमति दी गई है। वे एनडीआरएफ के जवानों की मौजूदगी में उनके सहयोग से ही आवाजाही कर सकेंगे। बीते दो दिनों से लगातार हुई मूसलाधार बरसात और ऋषि गंगा नदी की उफान ने धौली नदी पर भंग्यूल ग्राम पंचायत को जोड़ने वाले अस्थाई पुल को जमींदोज कर दिया है। ग्रामीणों की समस्या को देखते हुए सुबह से एनटीपीसी साइट तपोवन में मंथन व निरीक्षण चला। एसडीएम कुमकमुम जोशी, एनटीपीसी के जीएम आरपी अहिरवार व लेानिवि के ईई डीएस रावत ने बैराज साइड के साथ ही अन्य विकल्पों का स्थलीय निरीाक्षण किया कर एनटीपीसी के बैराज के ऊपर से सुरक्षित आवाजाही कराने का फैसला किया। अहिरवार के अनुसार हालांकि बैराज के ऊपर पगडंडी से आवाजाही असुरक्षित है पर ग्रामीणों की आवाजाही भी बेहद जरूरी है। इसे देखते हुए तय किया गया कि फिलहाल जब तक वैकल्पिक व्यवस्था नहीं होती तब तक एनडीआरएफ की मौजूदगी व सहयोग से ही ग्रामीणों को आवाजाही कराई जाए। उल्लेखनीय है किऋषि गंगा त्रासदी मे तपोवन से भंग्यूल को जोड़ने वाला एक मात्र पुल जमींदोज हो गया था। मार्च में लोनिवि ने अस्थाई पैदल पुल का निर्माण कराया था। वह भी बीते रोज धराशायी हो गया। उन्होंने बताया कि भंग्यूल गांव के लिए पैदल झूला पुल व मोटर पुल स्वीकृत हैं। निविदा प्रक्रिया गतिमान है। हिन्दुस्थान समाचार/प्रकाश कपरूवाण