कोरोना से ठीक होने पर भी सतर्कता जरूरी: प्रो.रविकांत

कोरोना से ठीक होने पर भी सतर्कता जरूरी: प्रो.रविकांत
vigilance-is-necessary-even-after-recovering-from-corona-prof-ravikant

ऋषिकेश, 04 मई (हि.स.)। कोविड संक्रमण से स्वस्थ होने वाले गम्भीर रोगियों के लिए कुछ नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है। इनमें गर्म पानी का नियमित सेवन करना और दैनिक व्यायाम करना शामिल है। यह कहना है एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो. रविकांत का। एम्स निदेशक का कहना है कि कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले रोगियों की देखभाल हेतु एक समग्र और व्यापक दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता होती है। कोरोना वायरस रोगी के शरीर और मानसिक स्वास्थ्य दोनों पर हमला करता है। लिहाजा अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद भी स्वस्थ होकर लौटे कोविड मरीजों की पर्याप्त देखभाल बहुत जरूरी है। ऐसे रोगी जो गंभीररूप से संक्रमित हुए हों अथवा पूर्व में किसी अन्य बीमारी से ग्रसित रहे हों, उन्हें पूर्ण स्वस्थ होने में अधिक समय लग सकता है। लिहाजा उन्हें घर पर रहते हुए भी कोविड नियमों और इस महामारी से बचाव को लेकर जारी गाइडलाइनों का गंभीरता से पालन करना चाहिए। सीएफएम विभागाध्यक्ष प्रोफेसर वर्तिका सक्सेना ने बताया कि अस्पताल से स्वस्थ होकर घर लौटे व्यक्ति की देखभाल उतनी ही जरूरी है जितनी अस्पताल में की जाती है। उन्होंने सलाह दी कि ऐसे लोगों को शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ अपने मानसिक स्वास्थ्य पर भी ध्यान देना चाहिए। स्वस्थ होने के बाद भी गर्म,गुनगुने पानी का सेवन करते रहना चाहिए। कोविड से ठीक होने के बाद अस्पताल घर लौटे मरीजों को पर्याप्त मात्रा पानी का सेवन करना जरूरी है। डाॅ. वर्तिका ने बताया कि कोविड के दौरान अत्यधिक शीतलपेय अथवा ठंडा पानी नुकसान पहुंचा सकता है। हिन्दुस्थान समाचार /विक्रम