निजी अस्पतालों को दिए गए पीएम केयर्स फंड से आये वेंटिलेटर

निजी अस्पतालों को दिए गए पीएम केयर्स फंड से आये वेंटिलेटर
ventilators-from-pm-cares-fund-given-to-private-hospitals

हरिद्वार, 22 मई (हि.स.)। जिले में कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। ग्रामीण क्षेत्रों में भी बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ रही है। कई गंभीर मरीजों की वेंटिलेटर न मिलने के कारण मौतें भी हुई हैं। सरकारी स्वास्थ्य सुविधा लचर हो गई है। इसी को देखते हुए रुड़की और हरिद्वार में धूल फांक रहे पीएम केयर फंड से आए वेंटिलेटर को जिला प्रशासन ने प्राइवेट हॉस्पिटलों को संचालित करने के लिए दे दिया है। सरकारी हॉस्पिटलों में वेंटिलेटर को संचालित करने के लिए टीम को भी प्रशिक्षण दिलवाया जा रहा है। सरकारी हॉस्पिटलों में वेंटिलेटर को चलाने के लिए स्टाफ की कमी को देखते हुए ये फैसला लिया गया है। हरिद्वार जिले में सरकारी हॉस्पिटलों में स्टाफ की कमी के चलते करोड़ों की लागत के वेंटिलेटर धूल फांक रहे थे। रुड़की के सरकारी हॉस्पिटल में आईसीयू न बनने के कारण पीएम केयर फंड से आए 14 वेंटिलेटर कई सालों बंद पड़े थे। कोरोना काल में हरिद्वार में वेंटिलेटर की कमी देखी गई। इसके बाद अब हरिद्वार जिला प्रशासन ने धूल फांक रहे वेंटिलेटर को प्राइवेट हॉस्पिटलों को दे दिया है। साथ ही सरकारी हॉस्पिटलों में स्टाफ को भी वेंटिलेटर चलाने की ट्रेनिंग श्रीनगर मेडिकल कॉलेज के टेक्निकल टीम से दिलवाई जा रही है। जिलाधिकारी सी रविशंकर का कहना है कि सरकारी हॉस्पिटलों में वेंटिलेटर चलाने के लिए स्टाफ की कमी थी। श्रीनगर मेडिकल कॉलेज से डॉक्टरों की टीम हरिद्वार आई है। उनके द्वारा स्वास्थ्य कर्मचारियों को वेंटिलेटर चलाने की ट्रेनिंग दिलवाई जा रही है। तब तक के लिए हमारे द्वारा रुड़की और हरिद्वार में रखे वेंटिलटर को प्राइवेट हॉस्पिटलों को दिया गया है। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद प्राइवेट हॉस्पिटलों से वेंटिलेटर को वापस लिया जाएंगे। सीएमओ हरिद्वार शंभूनाथ झा ने बताया कि रुड़की के सरकारी अस्पताल में आईसीयू तैयार न होने के कारण 10 वेंटिलेटर हरिद्वार में प्राइवेट हॉस्पिटल को दिए गए हैं। 4 वेंटिलेटर देहरादून के अस्पताल को दिए गये हैं। मेला अस्पताल से भी हमारे द्वारा कुछ प्राइवेट हॉस्पिटलों को वेंटिलेटर दिए गए हैं। अभी भी हमारे पास कुछ वेंटिलेटर हैं, जरूरत पड़ने पर उनको भी प्राइवेट हॉस्पिटलों को दिया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत

अन्य खबरें

No stories found.