बैसाखी के पावन पर्व पर मंदिर में लगा भक्तों का तांता, लगाई गंगा में डुबकी

बैसाखी के पावन पर्व पर मंदिर में लगा भक्तों का तांता, लगाई गंगा में डुबकी
the-influx-of-devotees-in-the-temple-on-the-holy-festival-of-baisakhi-plunged-into-the-ganges

उत्तरकाशी 14,अप्रैल (हि.स.)। बैसाखी के पावन पर्व पर जिले भर के मंदिरों भक्तों का तांता लगा रहा। लोगों ने सुबह से ही देव डोलियों के साथ गंगा जी मे आस्था की डुबकी लगाई। जिला मुख्यालय की कुटेटी देवी मंदिर रेणका देवी मंदिर सहित डुंडा प्रखंड के भवान गांव मे राजराजेश्वरी माता मंदिर में देव डोलियों के साथ भक्तों का तांता सुबह से ही लगा रहा। नवरात्र के दूसरे दिन माता के मंदिर में सुबह से क्षेत्र के देव डोलियों राजराजेश्वरी देवी मंदिर में पहुंच रही हैं। इसके चलते बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं देवी देवताओं के साथ माता का आशीर्वाद ले रहे हैं। पूरे क्षेत्र में भक्तिमय माहौल बना हुआ है। उत्तरकाशी से 25 किलोमीटर दूर धनारी पट्टी के भवान गांव राजराजेश्वरी माता मंदिर में चैत्र नवरात्र के पावन पर्व पर श्रद्धालुओं का आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इस मंदिर सालभर लोग मां के दर्शनों के लिए पहुंचते है। धन, वैभव, योग और मोक्ष की देवी कही जाने वाली श्री राज राजेश्वरी का सिद्धपीठ भवान गांव में आदि शक्ति का एहसास यह मंदिर हर समय श्रद्धालुओं व ग्रामीणों को कराता है। प्राचीन काल से आध्यात्म के लिए जानी जाने वाली राजराजेश्वरी को कई राजा महाराज भी अपनी कुल देवी मानते थे। आज के दौर में भी मां के भक्तों में कोई कमी नहीं आई है। ऐसी मान्यता है कि इस सिद्धपीठ में दर्शन करने वाले भक्तों की मनोकामना जरूर पूरी होती है। इस बार ग्रामीण 21 अप्रैल को विशाल भंडारे का आयोजन भी कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/चिरंजीव सेमवाल