swami-pragyananand39s-allegations-baseless-narendra-giri
swami-pragyananand39s-allegations-baseless-narendra-giri
उत्तराखंड

स्वामी प्रज्ञानानंद के आरोप बेबुनियादः नरेन्द्र गिरि

news

हरिद्वार, 27 फरवरी (हि.स.)। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि महाराज ने शनिवार को कहा कि कैलाशानंद गिरि निरंजनी अखाड़े के आचार्य हैं। पूर्व में काशी में स्वामी प्रज्ञानानंद महाराज को आचार्य बनाया गया था, किन्तु उनके व्यवहार और चरित्र के कारण तथा सनातन परम्पराओं से दूर रहने के कारण व अखाड़े के अनुशासन के विपरीत पाए जाने पर उन्हें हटाकर स्वामी कैलाशांनद को आचार्य बनाया गया है। उन्होंने कहा कि स्वामी प्रज्ञानानंद के आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने कहा कि वे अभी भी कह रहे हैं की वे आचार्य हैं, किन्तु हरिद्वार आने के बाद भी वे अखाड़ा नहीं आए। उन्होंने कहा कि स्वामी प्रज्ञानांनद यह कहते फिर रहे हैं कि आचार्य बनने के लिए उनसे धनराशि ली गयी, किन्तु अखाड़े ने उनसे कोई धन नहीं लिया। उन्होंने कहा कि अखाड़े की परम्परा है कि आचार्य या मण्डलेश्वर बनने पर भण्डारे व दक्षिणा में जो खर्च हुआ वहीं उनके द्वारा खर्च किया गया और यह सभी अखाड़ों की परम्परा है। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि ने कहाकि स्वामी प्रज्ञानांनद को ऐसा दुष्प्रचार नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आचार्य पद से हटाए जाने के बाद वे भारतीय जनता पार्टी कार्यालय भी शिकायत लेकर गए थे। उन्होंने कहा कि स्वामी प्रज्ञानांनद ने कभी भी अखाड़े को एक रुपया तक नहीं दिया। उनके आरोप बेबुनियाद हैं। स्वामी प्रज्ञानानंद गिरि आरोपों का खण्डन करें अन्यथा उनके खिलाफ मानहानि की कार्रवाई की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत/मुकुंद