senior-advisor-of-ndma-took-feedback-of-mock-drill
senior-advisor-of-ndma-took-feedback-of-mock-drill
उत्तराखंड

एनडीएमए के वरिष्ठ सलाहकार ने लिया मॉक ड्रिल का फीडबैक

news

हरिद्वार, 06 अप्रैल (हि.स.)। एनडीएमए के वरिष्ठ सलाहकार मेजर जनरल वीके दत्ता ने मंगलवार को मेला नियंत्रण भवन में माॅक ड्रिल के सम्बंध में अधिकारियों से फीडबैक लिया। इस मौके पर मेजर जनरल वीके दत्ता ने कहा कि यदि कहीं घटना होती है तो सबसे पहले सेक्टर मजिस्ट्रेट या अन्य व्यक्ति कंट्रोल रूम 1902 पर सूचना देंगे। कंट्रोल रूम से सूचना प्रेषित होते ही सभी टीमें अलर्ट हो जाएंगी। घटना स्थल पर जिस टीम की जरूरत है, वही टीम सबसे पहले पहुंचेगी। इसके साथ ही घटना में घायल हुए लोगों को सीधे एंबुलेंस से अस्पताल नहीं भेजें, बल्कि पास ही स्थित मेडिकल यूनिट पर उपचार दें। यदि यहां कोई गंभीर घायल है तो उसे ही रेफर किया जाए। वरिष्ठ सलाहाकार मेजर जनरल ने कहा कि सभी टीमों का समन्वय सबसे बड़ी बात है। यदि समन्वय होगा तो हर स्थिति से आसानी से निपट सकेंगे। इसके साथ ही घटना के सम्बंध में मीडिया को जानकारी देने के लिए भी सम्बंधित की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए। ताकि मीडिया को हर जानकारी स्पष्ट मिल सके। मेजर जनरल ने बताया कि महाकुम्भ मेला महत्वपूर्ण है। भीड़ को नियंत्रित करना, यात्रियों को सही दिशा-निर्देश देना हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबन्धन एक टीम वर्क है, जितनी भी एजेंसियां हैं, वह सभी हमारी टीम के सदस्य हैं। बैठक में मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि हर साइट पर मीडिया नहीं होगी, ऐसे में मीडिया को हर जानकारी सही दी जाए। उन्होंने हाल ही में बैरागी कैंप में हुए अग्निकांड का जिक्र करते हुए कहा कि निकट भविष्य में गर्मी बढ़ने से इस तरह की घटनाओं में बढ़ोतरी हो सकती है, ऐसे में आग से बचाव के बेहतर उपाय किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व में सांप काटने की घटनाएं भी सामने आई हैं। इसलिए सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट ध्यान दें कि शौचायल आदि के पास अंधेरा न हो। इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुम्भ मेला जन्मेजय खण्डूरी, अपर मेला अधिकारी डाॅ. ललित नारायण मिश्र, रामजी शरण शर्मा व एटीएस, एनएसजी, एसडीआरएफ, एसएसबी, एयरफोर्स सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत/मुकुंद