टिहरी,हरिद्वार में श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कैंपस पर मुहर

टिहरी,हरिद्वार में श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कैंपस पर मुहर
seal-on-the-campus-of-sridev-suman-university-in-tehri-haridwar

नई टिहरी, 11 जून (हि.स.)। श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय की पंचम कार्य परिषद की ऑनलाइन बैठक में टिहरी व हरिद्वार में विश्वविद्यालय कैंपस बनाये जाने पर निर्णय हुआ। बैठक की अध्यक्षता कार्य परिषद के अध्यक्ष व कुलपति डा. पीपी ध्यानी ने की। साथ ही विश्वविद्यालय का तृतीय दीक्षान्त समारोह विश्वविद्यालय के ऋषिकेश परिसर में आयोजित करने व पं ललित मोहन शर्मा स्नातकोत्तर महाविद्यालय का नाम पंडित ललित मोहन शर्मा परिसर, ऋषिकेश किये जाने के साथ ही विश्वविद्यालय में पं ललित मोहन स्मृति व्याख्यान प्रारम्भ किये जाने का अनुमोदन किया गया। स्नातक स्तर पर सर्वोच्च अंक प्राप्त करने वाले छात्र-छात्रा को श्रीदेव सुमन गोल्ड मेडल से अंलकृत किये जाने एवं पुरस्कार राशि स्वरूप 11 हजार रुपये दिये जाने का अनुमोदन किया गया। बैठक में पूर्व कुलसचिव सुधीर बुड़ाकोटी के विश्वविद्यालय में किये गये अमर्यादित कृत्यों पर परिषद ने खेद व्यक्त किया। वर्चुअल बैठक में कार्य परिषद के सभी 17 सदस्य उपस्थित रहे, जिनमें कुलाधिपति नामित सदस्य बीएस वर्मा, देवेन्द्र शर्मा, डा कौशलेन्द्र सिंह भदौरिया, प्रो एमएसएम रावत, दीपेन्द्र चौधरी, पंकज पन्त, डा आरके गुप्ता, प्रो संदीप कुमार आदि मौजूद हैं। अन्य अनुमोदन 1-देहरादून स्थित सहसपुर के स्थान भाऊवाला स्थित 2 एकड़ भूमि पर मैदानी छात्रों की सुगमतापूर्वक कार्य पहुंच को कैम्प कार्यालय कम अतिथि गृह का निर्माण होगा। 2- वीसी गब्बर सिंह नेगी स्मृति व्याख्यान, श्रीदेव सुमन स्मृति व्याख्यान व पंडित ललित मोहन शर्मा स्मृति व्याख्यान हर साल होगा। 3- विश्वविद्यालय मुख्यालय के सभागार का नाम प्रथम विश्वयुद्ध के महानायक, विक्टोरिया क्रास वीसी गब्बर सिंह नेगी मेमोरियल हाल होगा। 4- विश्वविद्यालय की सत्र 2020-21 की वार्षिक प्रगति का अनुमोदन। 5- विभिन्न राजकीय एवं निजी महाविद्यालयों में विश्वविद्यालय के संचालित पाठ्यक्रम की अवधि के लिए अस्थायी मान्यता व 5 वर्ष की अस्थायी सम्बद्धता पूर्ण कर चुके संस्थानों व महाविद्यालयों को स्थायी सम्बद्धता प्रदान की जाएगी। 6- राष्ट्रीय शिक्षा नीति- 2020 के मद्देनजर छात्रहित में वार्षिक पद्धति को समाप्त कर इसके स्थान पर सेमेस्टर पद्धति लागू की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल