वैज्ञानिक स्वसन कोरोना से बचाव में हितकारी : प्रोफेसर कटियार

वैज्ञानिक स्वसन कोरोना से बचाव में हितकारी : प्रोफेसर कटियार
scientist-breathing-is-beneficial-in-prevention-of-corona-professor-katiyar

हरिद्वार, 20 जून (हि.स.)। पतंजलि विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर परिचर्चा का प्रारम्भ पतंजलि विश्वविद्यालय के संकायाध्यक्ष प्रो. वीके कटियार के संबोधन से हुआ। उन्होंने स्वामी रामदेव द्वारा बताये गये विभिन्न प्राणायाम के वैज्ञानिक प्रभावों का वर्णन करते हुए श्वसन यांत्रिकी पर विशेष रूप से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा वैज्ञानिक स्वसन कोरोना से बचाव में हितकारी है। पतंजलि अनुसंधान संस्थान के उपाध्यक्ष एवं वैज्ञानिक डाॅ. अनुराग ने कोविड-19 के वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में आयुर्वेद से आरोग्य विषय पर अनुसंधानपरकविचार रखे। आईआईटी रुड़की के आचार्य डाॅ. रजत अग्रवाल ने जीवन प्रबंधन की विभिन्न तरीकों से अवगत कराया। युवा संन्यासी एवं योग सप्ताह के आयोजन सचिव स्वामी परमार्थदेव ने उपनिषदों के विशेष संदर्भ में आत्मज्ञान की विषद व्याख्या कर युवाओं को वैदिक संस्कृति को जानने एवं जीवन में उसके अनुप्रयोग के लिए अभिप्रेरित किया। अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ के कुलपति प्रो. एडीएन वाजपेयी ने युवाओं को ऋषि संस्कृति को समझाते हुए शरीर और मन की प्रयोगशाला में आत्म-अनुसंधान करने का आह्वान किया। अंग्रेजी विभाग की सहायक प्राध्यापक डाॅ. अंजू त्यागी ने स्वस्थ जीवन के लिए अध्यात्म विषय पर विचार रखे। आयुर्वेद एवं मानव स्वास्थ्य विषय पर डाॅ. राजेश मिश्रा ने प्रस्तुतिकरण दिया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय की छात्रा मैत्रेयी ने कवितापाठ किया। शिवम एवं वरदान चौधरी ने ‘मां भारती के खातिर तन-मन मेरा स्वदेशी...’ गीत प्रस्तुत किया। हिन्दुस्थानसमाचार/रजनीकांत

अन्य खबरें

No stories found.