स्पीकर ने रम्भा नदी की गंदगी को गंगा में मिलने से रोकने की परियोजना बनाने के दिए निर्देश
स्पीकर ने रम्भा नदी की गंदगी को गंगा में मिलने से रोकने की परियोजना बनाने के दिए निर्देश
उत्तराखंड

स्पीकर ने रम्भा नदी की गंदगी को गंगा में मिलने से रोकने की परियोजना बनाने के दिए निर्देश

news

ऋषिकेश, 29 जुलाई (हि. स.)। उत्तराखंड विधानसभा के अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने वन विभाग एवं (नमामि गंगे) सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर ऋषिकेश की रम्भा नदी से गंगा में मिलने वाली गंदगी को रोकने संबंधी योजनाओं का शीघ्र शुभारंभ करने के निर्देश दिए । बुधवार को बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर आयोजित बैठक में अग्रवाल ने कहा कि सोमेश्वर नगर स्थित पौराणिक महादेव मंदिर सोमेश्वर महादेव के नीचे से रम्बा नदी का उद्गम स्थल है , यहां से निकल कर रम्भा नदी बीरपुर खुर्द स्थित वीरभद्र महादेव के पास से होते हुए गंगा में मिलती है। लेकिन गंगा नदी में मिलने से पूर्व इस नदी का पानी काफी दूषित हो जाता है, इससे गंगा नदी का पानी भी दूषित हो रहा है | उन्होंने रंभा नदी को पुराने स्वरूप में वापस लाने के लिए ठोस कदम उठाए जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने बताया है कि रंभा नदी में डाली जा रही गंदगी से गंगा नदी की स्वच्छता एवं शुद्धता प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है । अग्रवाल ने कहा है कि अन्य गंदे नालों की गंदगी रोकने और इस समस्या का शीघ्र समाधान किया जाए। इस अवसर पर डीएफओ देहरादून राजीव धीमान ने कहा कि रंभा नदी के किनारों पर 135 परिवारों ने वन विभाग की भूमि पर अतिक्रमण किया हुआ है।जिनको विभाग हटाने की प्रक्रिया करेगा। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने अधिकारियों को कहा है कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं प्रभावित परिजनों से सामंजस्य स्थापित कर इस समस्या का समाधान निकाला जाए ताकि लोगों को किसी प्रकार की परेशानी भी ना हो और रम्भा नदी में बह रहे गंदे पानी को गंगा जी में जाने से भी रोका जा सके । इस अवसर पर नमामि गंगे के परियोजना प्रबंधक संदीप कश्यप, परियोजना अभियंता एके चतुर्वेदी वन विभाग के एसडीओ बीवी मरर्तोलिया सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार /विक्रम-hindusthansamachar.in