Police forcibly escort agitators sitting on hunger strike, agitators climbed tower
Police forcibly escort agitators sitting on hunger strike, agitators climbed tower
उत्तराखंड

अनशन पर बैठे आंदोलनकारियों को जबरन उठाने गई पुलिस, आंदोलनकारी चढ़े टावर पर

news

गोपेश्वर, 14 जनवरी (हि.स.)। चमोली जिले के नंदप्रयाग-घाट मोटर मार्ग के चौड़ीकरण की मांग को लेकर अनशन पर बैठे आंदोलनकारियों के स्वास्थ्य में गिरावट आने के बाद गुरुवार को पुलिस ने आंदोलकारियों को जबरन उठाने का प्रयास किया तो पुलिस को क्षेत्रीय जनता का भारी विरोध झेलना पड़ा और उन्हें बेरंग ही वापस लौटना पड़ा। इस दौरान आंदोलकारी घाट में बने विभिन्न टावरों पर चढ़ गये और सरकार से मांग की कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती है तब तक वे टावर से नहीं उतरेंगे। बता दें कि नंदप्रयाग-घाट मोटर मार्ग के चौड़ीकरण की मांग को लेकर पांच दिसम्बर से घाट में आंदोलन चल रहा है, जिसके बाद 10 जनवरी से आमरण अनशन शुरू कर दिया गया था। बुधवार को चिकित्सकों की टीम ने आमरण अनशनकारियों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनके स्वास्थ्य में भारी गिरावट आने की बात कही। इसके बाद गुरुवार को पुलिस टीम ने आमरण अनशनकारियों को जबरन उठाने का प्रयास किया लेकिन क्षेत्रीय जनता के भारी विरोध के कारण पुलिस को बेरंग लौटना पड़ा। आमरण अनशनकारी गुड्डू लाल व महावीर सिंह घाट में बने अलग-अलग मोबाइल टावर पर चढ़ गये। उनका कहना है कि जब तक सरकार उनकी मांग नहीं मान जाती तब तक वे टावर से नीचे नहीं उतरेंगे और यहीं भूख हड़ताल जारी रखेंगे। वहीं आंदोलनकारियों के समर्थन में पूर्व जिला पंचायत सदस्य सरस्वती देवी, क्षेत्र पंचायत सदस्य अनिता बिष्ट, कलावती देवी, रमा भंडारी, ईशा रावत समेत अन्य महिलाओं ने धरना दिया। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश-hindusthansamachar.in