मंत्री के पत्र के बाद वात्सल्य योजना पर विपक्ष का हमला

 मंत्री के पत्र के बाद वात्सल्य योजना पर विपक्ष का हमला
opposition-attack-on-vatsalya-scheme-after-minister39s-letter

देहरादून, 08 जून (हि.स.)। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा के 16 दिन बाद भी मंजूरी नहीं मिलने पर विभागीय मंत्री के पत्र के बाद विपक्ष ने भी सरकार पर बच्चों के प्रति उदासीन रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री रेखा आर्य ने मुख्य सचिव को पत्र लिखकर 22 मई को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा के बाद क्रियान्वयन में देरी पर नाराजगी जाहिर की थी। मंत्री ने कहा है कि योजना को शुरू करने में देरी से अनाथ हो चुके बच्चों के हित उतने ही प्रभावित होंगे। मुख्य सचिव से योजना शीघ्र लागू कर प्राथमिकता के आधार पर कार्रवाई की अपेक्षा की है। वहीं कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता गरीमा माहरा दसौनी ने मंत्री के पत्र पर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वात्सल्य योजना के प्रति सरकार और अधिकारियों की उदासीनता चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि अनाथ बच्चों की खोज करके उनके भरण पोषण और पढ़ाई लिखाई का राज्य सरकार को वहन करना चाहिए। यह सलाह विपक्ष द्वारा ही दी गई थी। विभाग की मंत्री स्वयं जब इस बात को स्वीकार कर रही हैं कि वात्सल्य योजना जहां शुरू हुई थी वही अटक कर रह गई है, यह बड़ा विषय है। दसोनी ने कहा कि स्वयं मंत्री अपने विभाग की इस योजना का फॉलोअप लेना चाहिए था। भाजपा के सभी नेता वात्सल्य योजना का बखान कर रहे हैं लेकिन सरकार की उदासीनता के चलते वात्सल्य योजना ठंडे बस्ते में जा चुकी है यह उन्हें जानकारी नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश