दून मेडिकल कॉलेज में ओपीडी शुरू,पहले दिन 222 मरीज आए

दून मेडिकल कॉलेज में ओपीडी शुरू,पहले दिन 222 मरीज आए
opd-started-in-doon-medical-college-222-patients-came-on-the-first-day

देहरादून, 09 जून (हि.स.)। उत्तराखंड के प्रमुख सरकारी अस्पताल दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय में बुधवार को डेढ़ माह बाद सामान्य मरीजों के लिए ओपीडी सेवा फिर से शुरू गई। आज पहले दिन कुल 222 मरीज ओपीडी में आए। प्रत्येक ओपीडी में अभी 25-25 मरीज ही देखेने की व्यवस्था की गई है। हालांकि मेडिसिन को छोड़ अन्य विभागोंं में मरीजों की संख्या बहुत कम रही। बुधवार को शहर के प्रमुख सरकारी अस्पताल दून मेडिकल कालेज चिकित्सालय में फिर से एक बार उपचार की सुविधा बहाल होने से सामान्य मरीजों के लिए राहतभरी खबर है। दून मेडिकल कॉलेज चिकित्सालय को कोविड अस्पताल बनाया गया है। अब सामान्य कोरोना मरीजों की संख्या बेहद कम होने पर अस्पताल प्रशासन अन्य मरीजों के लिए ओपीडी को फिर से मरीजों को ध्यान में रखते हुए शुरू की गई है। ओपीडी दोपहर 12 बजे तक संचालित की गई, जिसके लिए पंजीकरण सुबह आठ से दस बजे तक किया जा रहा है। पंजीकरण कराने वाले मरीजों की पहले फ्लू ओपीडी में जांच की जा रही है फिर उन्हें संबंधित विभागों में उपचार के लिए उन्हें रेफर किया जा रहा है। ओपीडी पंजीरण प्रभारी बिनोद नैनवाल ने बताया कि आज कुल 17 ओपाडी के लिए कुल 222 मरीजों ने पंजीकरण कराए। इनमें से फ्लू ओपीडी में 134 आए। सबसे ज्यादा मेडिसिन ओपीडी में 25, आई में 6, कैंसर ओपीडी में,4 न्यूरों सर्जरी और डेंटल में एक-एक, स्कीन और सर्जरी में 6-6 मरीज आए। वहीं मानसिक में 5, बाल रोग में 2 टीबी एवं चेस्ट, कार्डियोलाजी में 2-2 मरीज के अलावा अन्य ओपीडी में उपचार के लिए मरीज आए। चिकित्सालय प्रशासन का कहना है कि दून अस्पताल में सिर्फ 69 कोरोना संक्रमितों का उपचार चल रहा है। इसे देखते हुए ओपीडी को फिर से कुछ प्रक्रियाओं के साथ बहाल किया गया है। आगे मरीजों के उपचार सहित अन्य सुविधाओं को भी बहाल किया जाएगा। ओपीडी में आने वाले मरीजों का मास्क लगाने के साथ मौके पर सेनेटाइजेशन भी किया जा रहा है। फ्लू ओपीडी में यदि किसी मरीज में कोरोना संक्रमण शक होने पर तुरंत एंटीजन टेस्ट और आरटीपीसीआर टेस्ट भी कराया जाएगा। जांच में कोरोना की पुष्टि होती है तो मौके पर ही मरीज को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश