online-classes-of-yoga-havan-satsang-continue-in-shantikunj
online-classes-of-yoga-havan-satsang-continue-in-shantikunj
उत्तराखंड

शांतिकुंज में ऑनलाइन योग, हवन, सत्संग की कक्षाएं जारी

news

हरिद्वार, 22 मई (हि.स.)। कोरोना संक्रमण के कारण चल रहे लॉकडाउन के बीच लोगों के स्वास्थ्य संवर्धन, प्रतिभा परिष्कार, युवाओं का काउंसलिंग सहित विभिन्न प्रशिक्षण शिविर के संचालन के लिए शांतिकुंज परिवार संलग्न है। देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के उच्च प्रशिक्षित योगाचार्य द्वारा नित्य प्रातः पांच बजे से योगाभ्यास तथा प्रतिभा परिष्कार हेतु दिन के मध्य में आनलाइन मार्गदर्शन के लिए उच्च प्रशिक्षित टीम जुटी हैं। वहीं आनलाइन चिकित्सा परामर्श एवं काऊंसलिंग के लिए भी एक उच्च प्रशिक्षित टीम भी है। ये सभी निःशुल्क हैं। ब्रह्मवर्चस शोध संस्थान के निदेशक एवं अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ. प्रणव पण्ड्या ने बताया कि योगाभ्यास स्वास्थ्य को सुदृढ़ बनाने के लिए आवश्यक है, तो वहीं भारतीय संस्कृति एवं आर्षग्रंथों में वातावरण को शुद्ध एवं पवित्र बनाने के लिए हवन की महत्ता गाई गयी है। कोरोना काल में असमय कालकवलित हुए आत्माओं की शांति एवं सद्गति हवन एवं प्रार्थना से संभव है। शांतिकुंज व्यवस्थापक महेन्द्र शर्मा ने बताया कि प्रातःकाल योगाभ्यास के बाद हवन आदि का प्रशिक्षण आनलाइन होते हैं। तो वहीं दिन के मध्य में गायत्री तीर्थ के उच्च प्रशिक्षित कार्यकर्ता सत्संग एवं प्रतिभा परिष्कार के लिए लोगों का मार्गदर्शन करते हैं। इसके अलावा संगीत विभाग के भाइयों द्वारा गायन एवं वादन की कक्षाएं भी चलाई जा रही हैं। ये सभी पूरी तरह से निःशुल्क हैं। इन कार्यक्रमों में देश-विदेश से बड़ी संख्या में लोग नित्य जुड़ते हैं। श्री शर्मा ने बताया कि इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों का यूट्यूब चैनल-शांतिकुंज वीडियो एवं फेसबुक आईडी में सजीव प्रसारण किया जाता है। इससे हर जिज्ञासु परिजन जुड़कर लाभ उठा सकते हैं। उधर डब्ल्यूएचओ में योग विशेषज्ञ एवं आयुष की सलाहकार परिषद के सदस्य डॉ. चिन्मय पण्ड्या के नेतृत्व में एक अलग टीम बनाई गई है, जो ऑनलाइन चिकित्सकीय परामर्श दे रही है। इस टीम में एलोपैथी, आयुर्वेदिक, एक्यूप्रेशर, प्राकृतिक चिकित्सा, योग चिकित्सा, प्राण चिकित्सा एवं मनोविज्ञान से जुड़े विशेषज्ञ शामिल हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत