श्रीनगर-पौड़ी धार्मिक,पर्यटन सर्किट पर अफसर गंभीरता से काम करें: धन सिंह

श्रीनगर-पौड़ी धार्मिक,पर्यटन सर्किट पर अफसर गंभीरता से काम करें: धन सिंह
officers-should-work-seriously-on-srinagar-pauri-religious-tourism-circuit-dhan-singh

पौड़ी, 07 मई (हि.स.)। प्रदेश के उच्च शिक्षा व आपदा प्रबंधन एवं पुर्नवास राज्य मंत्री डा. धन सिंह रावत ने कहा कि श्रीनगर-पौड़ी धार्मिक-पर्यटन सर्किट विकसित किए जाने को लेकर अधिकारी गंभीरता के साथ कार्य करें। कहा सर्किट की डीपीआर तैयार कर डीएम की संस्तुति के साथ जल्द पर्यटन विभाग को भेजी जाए। डा. रावत ने अधिकारियों को लोक वाद्य यंत्र वितरित किए जाने को लेकर कार्ययोजना तैयार किए जाने के निर्देश दिए। शुक्रवार को मुख्यालय पौड़ी स्थित विकास भवन सभागार में उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत ने विभिन्न विकास योजनाओं की समीक्षा बैठक ली। कहा कि श्रीनगर-पौड़ी धार्मिक पर्यटन सर्किट में मंदिरों को जोड़ सर्किट विकसित किए जाने को लेकर कमलेश्वर मंदिर परिसर श्रीनगर में आने-जाने के लिए अलग-अलग गेट, धारी देवी मंदिर में जाने वाले मार्ग को सीसी मार्ग बनाने व नदी किनारे स्नान घाट, वाहनों के लिए सुगम सुविधा, देवलगढ़ में व्यू पॉइंट, सोलर लाइट, डेस्टबिन, गाड़ी पार्किंग, रास्तों में रेलिंग, गुफा में जाने के लिए रास्ता तथा क्यूंकालेश्वर मंदिर पौड़ी में जाने वाले रास्ते को सीसी मार्ग बनाए जाने सहित अन्य कार्यों का कार्यदायी संस्था एक बार पुनः स्थलीय निरीक्षण करे। साथ ही मंदिर समिति पदाधिकारियों के साथ मिलकर जल्द डीपीआर तैयार कर डीएम की संस्तुति के साथ पर्यटन विभाग को भेजे। कहा कि पर्यटन सर्किट के रूप में विकसित होने वाले सभी धार्मिक स्थलों/मन्दिरों के पौराणिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व ऐतिहासिक महत्व की संपूर्ण जानकारी को संक्षिप्त व सटीक रुप में शिलापट पर उकेरा जाएगा। डा. रावत ने कहा कि श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र में प्रस्ताव के सापेक्ष चयनित 32 जोड़ी ढोल-दमाऊ, मसकबीन सहित अन्य लोक वाद्यों के वितरण को लेकर समय पर कार्ययोजना तैयार की जाए। कार्यक्रम में एमडी गढ़वाल मण्डल विकास निगम डा. आशीष चौहान व संबंधित मंदिरों के पदाधिकारी, कार्यदायी संस्था के अधिकारी बेविनार के माध्यम से शामिल हुए। इस अवसर पर डीएम विजय कुमार जोगदंडे, सीडीओ आशीष भटगांई, डीटीवीओ खुशाल सिंह नेगी, एसडीएम सदर एसएस राणा आदि मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार /राज