केन्द्र सरकार के सहयोग से अब उत्तराखंड को 183 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई

केन्द्र सरकार के सहयोग से अब उत्तराखंड को 183 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई
now-183-mt-of-oxygen-supplied-to-uttarakhand-in-collaboration-with-central-government

देहरादून, 07 मई (हि.स.)। उत्तराखंड राज्य को केन्द्र सरकार के सहयोग से अब 183 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई मिलती रहेगी। राज्य में संक्रमण की रोकथाम के लिए अब तक 40 लाख के करीब सैंपलिंग की जा चुकी है। वहीं राज्य में वैक्सीन की पहली डोज 17 लाख और दूसरी डोज पांच लाख प्रदेशवासियों को दी जा चुकी है। शुक्रवार को सचिवालय स्थित मीडिया सेंटर में सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी और आईजी अमित सिन्हा ने सरकार की ओर से किए जा रहे स्वास्थ्य संबंधी जानकारी पत्रकारों को दी। इस दौरान अमित नेगी ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग रेट प्रति मिलियन और राज्यों की तुलना में अधिक है।सरकार कोरोना उपचार और संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए प्रभावी कदम उठा रही है। अब तक प्रदेश में 40 लाख के करीब सैंपलिंग की जा चुकी है, प्रदेश में कुल दो लाख के क़रीब कोविड मरीज़ हैं जिनमें से डेढ़ लाख मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि बीते 24 घंटे में लगभग 4500 सौ के करीब मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। अमित नेगी ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा होम आइसोलेशन के लिए सचिव दिलीप जावलकर और सचिव सौजन्या को कोविड किट वितरण की जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार ने राज्य सरकार के लिए 60 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की अतिरिक्त आपूर्ति के लिए अनुमति दे दी है। जिसके बाद अब प्रदेश में 183 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई मिलती रहेगी। नरेंद्र नगर में ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो गया है, जिला चिकित्सालय अल्मोड़ा और चमोली में अगले कुछ दिन में ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो जाएंगे। इसके अलावा राज्य सरकार ने अन्य जिलों में ऑक्सीजन प्लांट की डिमांड भेजी गई है। जिसे जल्द स्वीकृति मिलने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्चुअल ओपीडी और ई-संजीवनी पोर्टल लगातार दूरस्थ इलाकों तक अपनी सेवा दे रहा है। रोज़ाना करीबएक हजार मरीजों को ईसंजीवनी के जरिए निशुल्क परामर्श दिया जा रहा है। सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि अगले कुछ दिनों में प्रदेश में 18 साल से ऊपर के लोगों के लिए वैक्सीन पहुंच जाएगी। 45 से अधिक उम्र के लोगों के लिए प्रदेश में व्यापक स्तर पर वैक्सीनेशन का कार्य चल रहा है। सचिव ने बताया कि दून मेडिकल कॉलेज में 40 अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड स्थापित किए गए हैं। साथ ही कोविड अस्पताल में भी बेड की संख्या बढ़ाई गई है। बीते एक सप्ताह में राज्य सरकार ने विभिन्न प्रयासों से पांच सिलेंडर उपलब्ध कराए है जबकि कुछ दिनों में पांच सौ और सिलेंडर मिलने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि सीएसआर के माध्यम से ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था की जा रही है। सभी प्राइवेट अस्पतालों को रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन के ऑडिट के लिए निर्देश दिए गए हैं।प्राइवेट अस्पतालों को यह भी निर्देशित किया गया है कि मरीज को बेहतर इलाज के साथ ही पेयजल जैसी मूलभूत सुविधाएं सुनिश्चित की जाए। कालाबाजारी रोकने के लिए की जा रही है कार्रवाई :आईजी आईजी अमित सिन्हा ने दवाओं की कालाबाजारी को लेकर बताया कि उधम सिंह नगर जिले में दो मुकदमे दर्ज किए गए हैं। जिनमें एक ओवर चार्जिंग को लेकर है और दूसरा मामला ऑक्सीमीटर को महंगे दाम में बेचने से संबंधित है। इसके अलावा देहरादून में भी बिना बिल के ऑक्सीमीटर बेचने के मामले में कारवाई की गई है। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश