महंत जयराम, महंत दिव्यानंद बने निर्मल अखाड़े के महामण्डलेश्वर

महंत जयराम, महंत दिव्यानंद बने निर्मल अखाड़े के महामण्डलेश्वर
mahant-jayaram-mahant-divyanand-became-the-mahamandaleshwar-of-nirmal-akhara

हरिद्वार, 26 अप्रैल (हि.स.)। निर्मल पीठाधीश्वर श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह महाराज वेदांताचार्य ने कहा कि संत महापुरुषों ने सदैव समाज का मार्गदर्शन कर देश को नई दिशा प्रदान की है। उक्त उद्गार श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह महाराज ने निर्मला छावनी में आयोजित गुजरात के नखतराणा के महंत जयराम हरि व अलकधाम के महंत दिव्यानंद हरि के पट्टाभिषेक समारोह की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किए। पट्टाभिषेक समारोह के दौरान सभी तेरह अखाड़ों के संतें ने महंत जयराम हरि व महंत दिव्यानंद हरि को तिलक चादर भेंटकर महामण्डलेश्वर पद पर अभिषिक्त किया। श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह महाराज ने कहा कि कुंभ मेला सनातन धर्म व भारतीय संस्कृति का शिखर पर्व है। कुंभ मेले में पूरे देश से हरिद्वार के गंगा तट पर एकत्र होने वाले संत महापुरुषों के सानिध्य में होने वाले धार्मिक अनुष्ठान देश दुनिया को आध्यात्मिक ऊर्जा प्रदान करते हैं। जिससे मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त होता है। उन्होंने कहा कि कुंभ के पवित्र अवसर पर अखाड़े के महामण्डलेश्वर की पदवी प्राप्त करने वाले महंत जयराम हरि व महंत दिव्यानंद हरि विद्वान महापुरुष हैं। जिनके सानिध्य में सनातन धर्म व संस्कृति का संवर्द्धन व संरक्षण होगा तथा निर्मल अखाड़े की परंपरांओं को मजबूती मिलेगी। अखाड़े के कोठारी महंत जसविन्दर सिंह महाराज ने कहा कि महंत जयराम हरि व महंत दिव्यानंद हरि सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें देवभूमि उत्तराखण्ड व हरिद्वार की पवित्र भूमि पर निर्मल अखाड़े के महामण्डलेश्वर पद पर आसीन होने का गौरव प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म के प्रचार प्रसार में अहम योगदान कर रहे संत जयराम हरि व दिव्यानंद हरि अखाड़े की परंपरांओं को मजबूत करते हुए समाज व देश सेवा में योगदान देंगे। नवनियुक्त महामण्डलेश्वर महंत जयराम हरि महाराज व महंत दिव्यानंद हरि महाराज ने श्री पंचायती अखाड़ा निर्मल व संतं का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि संतों के सानिध्य में मानव कल्याण में योगदान व सनातन धर्म व संस्कृति का संरक्षण संवर्द्धन करेंगे। इस अवसर पर संत हरदेव सिंह महंत अजैब सिंह महंत भरत सिंह, महंत राजा सिंह, महंत दर्शन सिंह, महंत सतनाम सिंह, महंत मोहन सिंह, महंत तीरथ सिंह, महंत कमलदास, महंत निर्मलदास, महंत अरुणदास, गुरूचरण सिंह, जनरैल सिंह, हरचरण सिंह शास्त्री, समाजसेवी अतुल शर्मा आदि सहित बड़ी संख्या में संतजन मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत