कोविड फर्जी टेस्ट घोटाले के बाद लाइब्रेरी घोटाला भी आया सामने : शांति भट्ट

कोविड फर्जी टेस्ट घोटाले के बाद लाइब्रेरी घोटाला भी आया सामने : शांति भट्ट
library-scam-also-came-to-the-fore-after-kovid-fake-test-scam-shanti-bhatt

नई टिहरी, 24 जून (हि.स.)। उतराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एडवोकेट शांति प्रसाद भट्ट ने भाजपा पर हमला बोलते हुये कहा कि हरिद्वार में कोविड फर्जी टेस्ट घोटाले के बाद 13 फर्जी पब्लिक लाइब्रेरियों के निर्माण में करोड़ों रुपयों का घोटाला भी सामने आया है। लाइब्रेरी घोटाले के छींटे भाजपा नेता मदन कौशिक पर भी पड़ रही हैं, जिसके चलते उन्हें नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना चाहिए। भट्ट ने जारी बयान में कहा कि हरिद्वार निवासी सचिदानन्द डबराल ने उतराखण्ड उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका योजित की है। जिस पर मुख्य न्यायमूर्ति की बेंच ने सुनवाई की है और 30 जून तक सभी पक्षों को जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। मदन कौशिक को भी जवाब दाखिल करना है। याचिकाकर्ता की मांग है कि मामले की सीबीआई जांच हो। क्योंकि नगर विधायक और पूर्व शहरी विकास मंत्री वर्तमान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने विधायक निधि से 13 पब्लिक लाइब्रेरियों को बनाने के लिए करोड़ों रुपये जारी किए थे, किन्तु लाइब्रेरी बनी ही नहीं। लाइब्रेरी घोटाले में तत्कालीन अधिकारियों के साथ ही वर्तमान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की संलिप्ता सामने आ रही है, जिसके चलते उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/