Hindu organizations organize public awareness rally under Shriram Janmabhoomi Surrender Campaign
Hindu organizations organize public awareness rally under Shriram Janmabhoomi Surrender Campaign
उत्तराखंड

हिंदू संगठनों ने श्रीराम जन्मभूमि समर्पण अभियान के तहत निकाली जनजागरण रैली

news

ऋषिकेश, 13 जनवरी (हि. स .)। विश्व हिंदू परिषद सहित तमाम हिंदू संगठनों ने आज श्रीराम जन्मभूमि समर्पण अभियान के अंतर्गत तीर्थ नगरी में जन जागरण अभियान रैली निकालकर लोगों को जागरूक किया। बुधवार को आदर्श नगर स्थित लाला जातिराम अग्रवाल सरस्वती शिशु विद्या मंदिर प्रांगण से अभियान के संयोजक दीपक तायल, सह प्रमुख नगर निगम पार्षद शिव कुमार गौतम, राजेंद्ररैणा, नीरज चौधरी के नेतृत्व में जनजागरण रैली शुरू हुई। रैली नगर के प्रमुख मार्ग रेलवे रोड, हरिद्वार रोड, घाट रोड, क्षेत्र बाजार, मेन बाजार, त्रिवेणी घाट से होती हुई तिलक रोड के बाद अपने प्रारंभिक स्थल पर जाकर समाप्त हुई। रैली के माध्यम से अयोध्या में निर्माणाधीन भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए निधि संग्रह अभियान भी चलाया गया। इस दौरान एक पत्र भी वितरित किया गया, जिसमें श्रद्धालुओं से भारतीय सनातन समाज की पुरातन विशेषता के अनुसार सभी लोगों से आह्वान किया गया है कि वह इस भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए अपना सहयोग अर्पित करें। यह अभियान 15 जनवरी से प्रारंभ होकर 5 फरवरी तक चलाया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि समर्पण निधि के संयोजक दीपक तायल ने रैली के समापन अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य श्रीराम मंदिर भारतीयों की स्वप्रेरणा है, जिसके लिए श्रीराम भक्तों ने 492 तंक अनवरत संघर्ष किया है। इस संघर्षों में लगभग चार लाख से अधिक राम भक्तों ने बलिदान दिया है। लगभग 36 वर्ष के श्रृंखलाबद्ध अभियानों के फलस्वरुप संपूर्ण समाज ने लिंग, जाति, वर्ग, भाषा, संप्रदाय क्षेत्र आदि भेदों को भूलकर एकाकी भाव से श्री राम मंदिर के लिए त्याग और बलिदान किया है। उन्होंने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि में भव्य मंदिर बनाए जाने के साथ-साथ जन जन के मंदिर में श्रीराम एवं उनके जीवन मूल्यों की प्रतिष्ठा की जाए, जिसके लिए अब अभियान प्रारंभ कर दिया गया है। यह अभियान तब तक जारी रहेगा, जब तक भव्य मंदिर का निर्माण नहीं हो जाता। इस दौरान विश्व हिंदू परिषद व सनातन धर्म से जुड़े तमाम संगठनों के लोग भी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार /विक्रम-hindusthansamachar.in