कितने कारनामों पर माफी मांगेगे हरीश रावत: भगत
कितने कारनामों पर माफी मांगेगे हरीश रावत: भगत
उत्तराखंड

कितने कारनामों पर माफी मांगेगे हरीश रावत: भगत

news

देहरादून, 17 जुलाई (हि.स.)। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने हर की पैड़ी के संदर्भ में जो बयान दिए थे, उस पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने तीखा प्रहार किया है। शुक्रवार को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व विधायक बंशीधर भगत ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा है कि कि हरीश रावत स्वयं और कांग्रेस , उत्तराखंड की जनता के पुराने अपराधी हैं और इनके द्वारा माफी मांगने की लंबी लिस्ट है। भगत ने कहा कि रावत और कांग्रेस, उत्तराखंड की जनता के हितों के घोर विरोधी रहे हैं । कांग्रेस ने हमेशा उत्तराखंड राज्य निर्माण का विरोध किया और उसके नेता यहां तक कहते थे कि उत्तराखंड उनकी लाश पर बनेगा। इतना ही नहीं कांग्रेस जो केंद्र में सरकार में थी उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी की सरकार से मिली हुई थी, इनकी मिलीभगत से मुजफ्फरनगर गोलीकांड हुआ। इस गोलीकांड में बड़ी संख्या में आंदोलनकारी शहीद हुए। माताओं ,बहनों के साथ अपमानजनक व्यवहार हुआ और आंदोलन को कुचलने की कोशिश भी हुई । इसके अलावा उत्तराखंड में भी गोलीकांड हुए। कांग्रेस ने आज तक इस अपराध के लिए माफी नहीं मांगी है। हरीश रावत उन दिनों भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में से थे। भगत ने कहा कि केंद्र में कांग्रेस सरकार हटने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री बनने पर भाजपा ने उत्तराखंड की जनता से किया गया राज्य बनाने का अपना वादा पूरा किया । इसके अलावा प्रदेश में कांग्रेस सरकार होने के बावजूद वाजपेयी ने नव सृजित उत्तराखंड के विकास के लिए विशेष पैकेज दिया। विशेष राज्य का दर्जा भी प्रदान किया । केंद्र में कांग्रेस सरकार आने के बाद यह दर्जा व पैकेज समाप्त हो गए। हरीश रावत ने केंद्र में मंत्री होने के बावजूद उत्तराखंड के विकास के लिए कोई योगदान नहीं दिया। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार के समय जिसके मुखिया हरीश रावत थे ने प्रदेश में जिस प्रकार से लूटपाट की गई और ‘ना खाता ना बही जो हरीश रावत कहे वह सही ‘ फार्मूले पर उन्होंने जिस तरह अपनी सरकार चलाई और उस दौरान जो घोटाले हुए उन्हें जनता जानती है। हरीश रावत ने आज तक उनके लिए माफी नहीं मांगी। भगत ने कहा कि उत्तराखंड की जनता ने कांग्रेस के काले कारनामों को देखते हुए पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त दी । मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में प्रदेश की भाजपा सरकार उत्तराखंड के चहुंमुखी विकास के लिए लगातार कार्य कर रही है। हरीश रावत व कांग्रेस के अन्य नेताओं को यह पच नहीं रहा है। वे लगातार व्यवधान डालने का प्रयास करते हैं । उन्होंने कहा कि हाल में करोना महामारी के दौर में पूरे देश के समान उत्तराखंड में भी कांग्रेस राज्य सरकार के कामों में लगातार बाधा डाल रही है। उन्होंने कहा कि हरीश रावत के राज में करोड़ों हिंदुओं की आस्था मां गंगा को हर की पौड़ी पर नहर घोषित कर दिया गया, जिससे कुछ बिल्डरों को लाभ मिल सके । अब हरीश रावत इस पर माफी मांग कर राजनीतिक नौटंकी कर रहे हैं । साथ ही भाजपा सरकार पर आरोप लगाने की कोशिश में है । माफी मांगने से न तो उनके पाप समाप्त हुए हैं और न प्रदेश की जनता उन्हें माफ करने वाली है ।अगर वास्तव में हरीश रावत और कांग्रेस का मन कुछ बदला है तो उन्हें उत्तराखंड निर्माण के पहले से लेकर आज तक अपने सभी पापों और जनविरोधी कार्यों के लिए माफी मांगनी चाहिए । हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती/मुकुंद-hindusthansamachar.in