आजादी के 73 साल बाद निजमूला घाटी में पहली बार घनघनाई मोबाइल की घंटी

आजादी के 73 साल बाद निजमूला घाटी में पहली बार घनघनाई मोबाइल की घंटी
आजादी के 73 साल बाद निजमूला घाटी में पहली बार घनघनाई मोबाइल की घंटी

गोपेश्वर, 25 जुलाई (हि.स.)। संचार क्रांति के इस युग में मोबाइल टावर से महरूम चमोली जिले के दशोली विकास खंड की निजमूला घाटी में शनिवार को पहली बार मोबाइल की घंटी घनघनाई। आज इसका शुभारंभ राज्यसभा सांसद अनिल बलुनी ने वर्चुअल के माध्यम से किया। क्षेत्र में मोबाइल सुविधा शुरू होने से क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक गांवों को इसका लाभ मिलेगा। दरअसल, निजमूला घाटी के एक दर्जन से अधिक गांवों में संचार सेवा न होने से लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई के लिए गांव से चार किलोमीटर दूर संकटाधार में पहुंच कर नेटवर्क क्षेत्र में आकर अपनी पढ़ाई सुचारु करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा था। शनिवार को प्राइवेट कंपनी जिओ के मोबाइल टावर शुरू होने से अब बच्चों व उनके अभिभावकों ने राहत की सांस ली है। शनिवार को बिरही व सैंजी में दो मोबाइल टावरों ने कार्य करना शुरू कर दिया है जिससे अब क्षेत्र के पगना, झींझी, धारकुमाला, दुर्मी, गौणा, निजमूला, व्यारा, सैंजी, गाडी समेत अन्य गांवों को इस मोबाइल टावर की सुविधा मिल पायेगी। पाणा के प्रधान मोहन सिंह नेगी ने बताया कि अभी एक टावर संकटाधार में भी लगने की प्रक्रिया जारी है। जिससे ईराणी गांव समेत अन्य गांवों को इसका लाभ मिल पायेगा। बताया कि शनिवार को राज्यसभा सांसद बलुनी ने वर्चुअल के माध्यम से इन दो टावरों की शुरूआत की। जिससे क्षेत्रवासियों में काफी खुशी है। उन्होंने इस सेवा के शुरू होने पर राज्यसभा सांसद का आभार भी प्रकट किया है। इस मौके पर भरत पंवार, देव सिंह गडिया, दिनेश सिंह, प्रकाश सिंह, चंद्रमोहन नेगी, सीमा नेगी, बलवीर नेगी आदि मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.