गंगा को स्वच्छ बनाए रखना सभी का नैतिक दायित्वः  सोमेश्वरानन्द गिरि
गंगा को स्वच्छ बनाए रखना सभी का नैतिक दायित्वः सोमेश्वरानन्द गिरि
उत्तराखंड

गंगा को स्वच्छ बनाए रखना सभी का नैतिक दायित्वः सोमेश्वरानन्द गिरि

news

हरिद्वार,13 जून (हि.स.)। बैरागी कैंप स्थित शंकराचार्य आश्रम के परमाध्यक्ष तथा निरंजनी अखाड़े के वरिष्ठ महामण्डलेश्वर स्वामी सोमेश्वरानन्द गिरि महाराज ने कहा कि गंगा हिंदू आस्था की अद्भुत पहचान है। लाखों करोड़ों श्रद्धालु गंगा जल का आचमन कर अपने कल्याण की कामना करते हैं। सूक्ष्म आराधाना से ही प्रसन्न होकर मां गंगा भक्तों को सुख समृद्धि व संपन्नता का आशीर्वाद देती है। उन्होंने कहा कि मां गंगा को स्वच्छ, अविरल बहने दें। गंगा को प्रदूषण मुक्त करने में संत समाज निर्णायक भूमिका निभाता चला आ रहा है। जन सहभागिता से गंगा को प्रदूषण मुक्त बनाया जा सकता है। मोदी सरकार गंगा स्वच्छता को लेकर कई योजनाएं संचालित कर रही है। भक्तों को संदेश देते हुए उन्होंने कहा कि गंगा को प्रदूषण मुक्त करने में सहयोग करें। किसी भी प्रकार की गंदगी गंगा में ना फेंकें। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष धर्मनगरी हरिद्वार में महाकुंभ मेले का आयोजन होने वाला है। देश ही नही विदेशों से भी करोड़ों श्रद्धालु गंगा स्नान के लिए हरिद्वार आएंगे। ऐसे में सभी की नैतिक जिम्मेदारी है कि गंगा को निर्मल व स्वच्छ बनाएं। उन्होंने कहा कि हिंदुओं की पौराणिक मान्यताओं व गंगा के संरक्षण को लेकर गंभीरता से कदम उठाने चाहिए। मठ मंदिरों, आश्रम, अखाड़ों, पौराणिक सिद्धपीठों की भव्यता व सुन्दरता को बनाए रखने में सभी को संगठित होकर योगदान देना चाहिए। महामण्डलेश्वर स्वामी सोमेश्वरानन्द गिरि महाराज ने कहा कि आज पूरी दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है। कोरोना के रूप में मानवता के सामने उत्पन्न हुआ गंभीर संकट बिगड़ते पर्यावरण का ही नतीजा है। इसलिए सभी को गंगा सहित तमाम पवित्र नदियों को प्रदूषण मुक्त बनाने के साथ पर्यावरण संरक्षण के लिए भी गंभीरता से कार्य करना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत-hindusthansamachar.in