employees-angry-due-to-non-allocation-of-accommodation
employees-angry-due-to-non-allocation-of-accommodation
उत्तराखंड

आवास आवंटन न होने से कर्मचारी नाराज

news

हरिद्वार, 08 जून (हि.स.)। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ चिकित्सा स्वास्थ्य सेवाएं उत्तराखंड द्वारा महिला चिकित्सालय के कर्मचारियों के आवास तोड़े जाने और अब तक भी कर्मचारियों को आवास आवंटित नहीं किये जाने से कर्मचारियों में रोष है। संघ के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश लखेड़ा ने कहा कि आवास तोड़कर कर्मचारियों को बाहर कर दिया गया। चिकित्सकों के आवास नहीं तोड़े गए। संघ द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी, महानिदेशक, चिकित्सा स्वास्थ्य, जिलाधिकारी हरिद्वार को इस संबंध में अवगत कराया गया है। लखेड़ा ने कहा कि कर्मचारियों को आवास तोड़े जाने के नोटिस मिलने पर कर्मचारियों और संघ ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार से अनुरोध किया था कि इन कर्मचारियों को मेला चिकित्सालय परिसर में जो कर्मचारी स्थानांतरित और सेवानिवृत्त हो गए हैं उनसे रिक्त कराकर आवंटन कर दिया जाए, किन्तु आवास टूटने के बाद भी कर्मचारी आवास के प्रार्थना पत्र को लेकर घूम रहे हैं। उनकी कोई सुन नहीं रहा है। कार्यालय प्रशासन द्वारा छूट दे दी गई है कि कोई कर्मचारी अगर अपने पर्सनल आवास पर चला जाता है तो भी वह अपना राजकीय आवास यहां संविदा कर्मी को किराए पर दे सकता है। इसकी शिकायत की गई तो जांच के नाम पर गोलमाल कर मामले को दबा दिया गया है। जिलाध्यक्ष शिवनारायण सिंह, जिला मंत्री राकेश भंवर ने कहा कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी से कई मांगो को लेकर वार्ता की गई है, जिसमें वर्दी, एसीपी का लाभ, चिकित्सा प्रतिपूर्ति, कर्मचारियों को आवास आवंटन, वेतन विसंगति, यात्रा भत्ता, आदि मांगों पर वार्ता हो चुकी है, परन्तु कोई हल नहीं निकला। उन्होंने कहाकि स्थायी कर्मचारी को आवास आवंटन किया जाना चाहिए। जबकि संविदा कर्मियों को बिना आवंटन, कटौती के शासनादेश के बिना आवास दिए जा रहे हैं। इसका साफ मतलब है कि कहीं न कहीं कोई गोलमाल हो रहा है। उन्होंने कहा है कि अगर दोनों कार्मिकों को शीघ्र आवास आवंटन नहीं किया गया तो लाॅकडाउन के तुरंत बाद मुख्य चिकित्सा अधिकारी का घेराव किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत