बैसाखी पर्व पर संगम तट पर स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु

बैसाखी पर्व पर संगम तट पर स्नान के लिए उमड़े श्रद्धालु
devotees-gathered-at-baisakhi-festival-to-bathe-on-sangam-beach

-श्रद्धालुओं ने रघुनाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना नई टिहरी, 14 अप्रैल (हि.स.)। बैसाखी पर्व पर बुधवार को भागीरथी-अलकनंदा संगम तट पर गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। हरिद्वार कुंभ में नहीं पहुंच पाने वाले श्रद्धालुओं ने कुंभ नगरी देवप्रयाग में ही गंगा में डुबकियां लगाईं। भगवान राम की तपस्थली रामकुण्ड में भी बड़ी संख्या में पौड़ी क्षेत्र के सुदूर स्थानों से पहुंचे श्रद्धालुओं ने पर्व स्नान किया। बैसाखी पर्व पर आज तीर्थ नगरी में स्नान पूजन के लिए सैकड़ों श्रद्धालु पहुंचे। जिसमें बड़ी संख्या में प्रवासी उत्तराखंडी भी शामिल थे। श्री रघुनाथ मंदिर में पूरे दिन पूजा अर्चना कर श्रद्धालुओं ने भगवान का आशीर्वाद लिया।। तीर्थनगरी में मंगलवार शाम से ही परिवारों के साथ श्रद्धालु पहुंचने लगे थे। रात्रि में डौर थाली में अपने इष्ट देवताओं का आह्वान कर श्रद्धालुओं ने उनके आदेश भी लिए। बड़ी संख्या में बाहर से आये श्रद्धालुओं के लिए श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन और श्री रघुनाथ गंगा सेवा समिति द्वारा भंडारे की व्यवस्था की गई थी, छोटे बच्चों के लिए दूध की विशेष व्यवस्था की गई थी। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए संगम स्थल पर जल पुलिस को तैनात किया गया था। कोरोना के भय से दूर लगातार तीन दिनों तक सैकड़ों श्रद्धालुओं गंगा तट पर गंगा स्नान के लिए जुटते रहे। बैसाख की संक्रांति पर लोक वादकों ने ढोल-दमाऊं के संग घरों में मंगल गीत गाकर सभी की सुख समृद्धि की कामना की। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/