उत्तराखंड में शनिवार को सामने आये कोरोना के 264 नए मामले, तीन और कोरोना संक्रमितों की मौत
उत्तराखंड में शनिवार को सामने आये कोरोना के 264 नए मामले, तीन और कोरोना संक्रमितों की मौत
देहरादून

उत्तराखंड में शनिवार को सामने आये कोरोना के 264 नए मामले, तीन और कोरोना संक्रमितों की मौत

news

देहरादून : उत्तराखंड में शनिवार को 264 नए मामले सामने आए। जिसके बाद राज्य में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 7447 हो गई है। जिसमें से 2996 वर्तमान में सक्रिय हैं। शनिवार को 162 मरीज ठीक हुए हैं। शनिवार को पौड़ी, अल्मोड़ा व चंपावत में चार, बागेश्वर में 31, देहरादून में 27, हरिद्वार में 42, नैनीताल में 95, पिथौरागढ़ में सात, रुद्रप्रयाग में एक, टिहरी में दो, ऊधमसिंहनगर में तीस और उत्तरकाशी में 17 नए मामले सामने आए हैं। तीन कोरोना संक्रमितों की मौत वहीं राज्य में शनिवार को तीन कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। एक मृतक की उम्र 42 साल है, जो एम्स ऋषिकेश में भर्ती था। दूसरा मृतक 42 साल मेडिकल कॉलेज देहरादून में भर्ती था और तीसरा मृतक 49 साल सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी में भर्ती था। इसके साथ ही अब तक प्रदेश में कुल 83 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। एक माह के भीतर रिकवरी दर में 23 प्रतिशत की कमी आई प्रदेश में लगातार कोरोना संक्रमित मामले बढ़ने से एक माह के भीतर रिकवरी दर में 23 प्रतिशत की कमी आई है। संक्रमित मरीजों के ठीक होने की दर में बागेश्वर जिला सबसे आगे हैं। वहीं, हरिद्वार की रिकवरी दर सबसे कम है।प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा सात हजार के पार हो गया है। वहीं, चार हजार से अधिक मरीज ठीक हो चुके हैं। जून के आखिर में संक्रमित मामलों में ठहराव की स्थिति आने से दो जुलाई को प्रदेश की रिकवरी दर 81 प्रतिशत थी। नौ जुलाई तक भी रिकवरी दर की यही स्थिति थी। इसके बाद संक्रमित मामले बढ़ने के कारण रिकवरी दर लगातार कम होती गई। 23 जुलाई को 62 प्रतिशत और 31 जुलाई तक प्रदेश की रिकवरी दर 58 प्रतिशत पर आ गई। पर्वतीय जिले बागेश्वर, चमोली, टिहरी, रुद्रप्रयाग, पौड़ी, अल्मोड़ा की रिकवरी दर मैदानी जिलों से बेहतर है। देहरादून जिले में संक्रमित मरीजों के ठीक होने की दर 70 प्रतिशत है। हरिद्वार जिले की 36 प्रतिशत और ऊधमसिंह नगर जिले की 37 प्रतिशत रिकवरी दर है। कोरोना आंकड़ों का अध्ययन कर रहे सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्युनिटी फाउंडेशन के अध्यक्ष अनूप नौटियाल का कहना है कि कोरोना संक्रमित मामले बढ़ने के साथ ही रिकवरी दर लगातार कम हो रही है। यह स्थिति चिंताजनक है। मैदानी जिलों की तुलना में पर्वतीय जिलों में रिकवरी दर काफी बेहतर है।-doonhorizon.inUttarakhandDehradunfeed.xml