एटलांटिस शतरंज अकादमी देहरादून ने किया ओपन शतरंज टूर्नामेंट का ऑनलाइन आयोजन

एटलांटिस शतरंज अकादमी देहरादून ने किया ओपन शतरंज टूर्नामेंट का ऑनलाइन आयोजन
एटलांटिस शतरंज अकादमी देहरादून ने किया ओपन शतरंज टूर्नामेंट का ऑनलाइन आयोजन

देहरादून : कोविड 19 महामारी ने इस समय जँहा हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों में संकट पैदा किया हुआ है, वंही इसके साथ ही खेल के दीवानों के लिए सबसे ज्यादा परेशानी खेल की घटनाओं का स्थगित होना ऐसे में वर्तमान स्थिति को देखते हुए, एटलांटिस शतरंज अकादमी, देहरादून ने स्वर्गीय श्री एमएस राणा मेमोरियल ऑल इंडिया इंटरनेशनल ओपन शतरंज टूर्नामेंट का ऑनलाइन आयोजन किया, ताकि दुनिया भर के शतरंज खिलाड़ियों को फिर से खेल से जोड़ा जा सके। अग्रणी विश्व ग्रैंड मास्टर याकूबबोएव नोडिरबेक, उजबेकिस्तान ने फोटो फिनिश में टाइटल अपने नाम किया, अंतर्राष्ट्रीय मास्टर अरोण्यक घोष, पश्चिम बंगाल और अंतर्राष्ट्रीय मास्टर लुकासियोस्को, अर्जेंटीना को क्रमशः 2 और 3 स्थान प्राप्त हुआ। उत्तराखंड के खिलाड़ी अथर्व बिष्ट, अमित ढौंडियाल, रचित राणा और विनय राज भट्ट क्रमशः 1,2,3 और 4 स्थान पर रहे। टूर्नामेंट में लगभग 1500 खिलाड़ियों ने ऑनलाइन भाग लिया जिसमें कि 75 टाईटल वाले खिलाड़ी, प्रमुख ग्रैंडमास्टर्स, अंतर्राष्ट्रीय मास्टर्स और 20 देशों ,रूस, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, उजबेकिस्तान आर्मेनिया, अर्जेंटीना, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोपीय देशों, इंडोनेशिया, नेपाल, बांग्लादेश आदि के फिडे मास्टर्स भी शामिल हैं। टूर्नामेंट में तमिलनाडु, केरल, महाराष्ट्र, आंध्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब, यूपी, बिहार, गुजरात, राजस्थान, हिमाचल, दिल्ली, असम, मिजोरम आदि राज्यों के 1200 से अधिक प्रतिभागियों के साथ.साथ भारतीय खिलाड़ियों की भी अच्छी प्रतिक्रिया देखने को मिली। टूर्नामेंट का आयोजन एटलांटिस शतरंज अकादमी द्वारा किया गया जो कि उत्तराखंड के शतरंज खिलाड़ियों के समुदाय द्वारा बनाया गया उत्तराखंड का सबसे बड़ा शतरंज समूह है। जिसमे कि श्री रोहित सिंह राणा, अध्यक्ष और श्री विनय राज भट्ट, एटलांटिस चेस क्लब के उपाध्यक्ष, श्री प्रबिन्द्र मणि वर्मा, टूर्नामेंट निदेशक और श्री ललित कपूर, मुख्य आर्बिटर ने एक साथ मिलकर अब तक का सबसे अच्छा ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन कराया। टूर्नामेंट के विजेताओं को कुल 21,111.00 रुपये दिए गए।-doonhorizon.inUttarakhandDehradunfeed.xml

अन्य खबरें

No stories found.