कोरोना संक्रमित शिक्षक की मौत, परिजनों को 2 दिन तक नहीं मिली जानकारी

कोरोना संक्रमित शिक्षक की मौत, परिजनों को 2 दिन तक नहीं मिली जानकारी
death-of-corona-infected-teacher-family-did-not-get-information-for-2-days

पौड़ी, 29 अप्रैल (हि.स.)। पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के गांव खैरासैण निवासी व मुख्यालय पौड़ी के विद्या मंदिर तिमली में सेवारत कोरोना संक्रमित एक शिक्षक की मौत हो गई है। वे संक्रमित होने के बाद से विद्यालय परिसर में ही आइसोलेट थे। 27 अप्रैल को स्वास्थ्य बिगड़ने पर उन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती किया गया, जहां से उन्हें मेडिकल कॉलेज श्रीनगर रेफर किया गया, लेकिन वहां पहुंचने से पहले ही शिक्षक ने दमतोड़ दिया था। जिला मुख्यालय पौड़ी से कुछ दूर स्थित विद्या मंदिर तिमली में सेवारत एक शिक्षक का विगत 21 अप्रैल को कोरोना टेस्ट लिया गया, जिसकी रिपोर्ट 25 अप्रैल को पॉजीटिव आई। उसके बाद से वे विद्यालय परिसर में ही आइसोलेट हो गए। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शिक्षक को कोविड किट प्रदान की। डॉ. पंकज जुयाल ने बताया कि संक्रमित शिक्षक की विगत 27 अप्रैल को शाम करीब 8 बजे तबियत बिगड़ने लगी, जिसके बाद उन्हें स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जिला अस्पताल पौड़ी में भर्ती कराया, जहां से शिक्षक को मेडिकल कॉलेज श्रीनगर के लिए रेफर किया गया। डॉ. जुयाल ने बताया कि मेडिकल कॉलेज पहुंचने पर डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इधर, शिक्षक की पत्नी ने बताया कि उन्हें स्वास्थ्य विभाग ने दो दिन तक पति की कोई जानकारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि 27 अप्रैल की रात उन्हें उपचार के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम ले गई, लेकिन उनकी मृत्यु की जानकारी मुझे 29 अप्रैल की दोपहर को रिश्तेदार के माध्यम से मिली। जबकि विभाग की ओर से मुझे अंधेरे में रखा गया। संवेदनशीलता हुई खत्म कोरोना महामारी के बीच समाज में संवेदनशीलता भी खत्म होती जा रही है। संक्रमित शिक्षक की मौत के बाद किराए के भवन में रह रहे उनके परिवार को अकेला छोड़कर मकान मालिक कहीं और चले गए हैं। शिक्षक की पत्नी ने बताया कि मकान मालिक को जैसे ही पति के म़त्यु की सूचना मिली, वे घर छोड़कर चले गए हैं। साथ ही उनके निधन पर विद्यालय परिवार, आस-पड़ोस व परिजन सांत्वना देने पर भी कतरा रहे हैं। प्रशासन करेगा अंत्येष्टि शिक्षक की पत्नी ने बताया कि पति के संक्रमित होने की जानकारी मिलने के बाद से हर कोई उनसे किनारा कर रहा है। ऐसे में अंत्येष्टि को लेकर परिवार में चिंता बनी हुई है। वहीं एसडीएम श्रीनगर रविंद्र बिष्ट ने बताया कि संक्रमित की अंत्येष्टि करने में परिवार की असमर्थता पर प्रशासन करेगा। हिन्दुस्थान समाचार/ राजीव