कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार प्रशासन के लिए बना चुनौती

कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार प्रशासन के लिए बना चुनौती
cremation-of-corona-infected-corpses-poses-challenge-for-administration

- हर घाट पर लोग कर रहे हैं विरोध, प्रशासन ने किया आईटीआई घाट चयनित श्रीनगर, 22 मई (हि.स.)। कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार प्रशासन के लिए चुनौती बन गया है। पूर्व में श्रीनगर के तीन घाटों पर कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। इन सभी स्थानों पर स्थानीय निवासियों ने आपत्ति जताई है। अब तहसील प्रशासन ने आईटीआई घाट को चयनित किया है। प्रशासन की ओर से यहां सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। श्रीनगर क्षेत्र में कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के लिए पूर्व में श्रीकोट शिवालय के नीचे, शनि मंदिर के समीप अल्केश्वर घाट व भक्तियाना स्थित आईटीआई घाट को चयनित किया गया था। अल्केश्वर घाट व श्रीकोट घाट पर कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार पर स्थानीय निवासियों ने कड़ी आपत्ति जताई थी। श्रीकोट निवासियों को कहना था कि शिवालय के समीप स्थित घाट पर नदी में पानी न के बराबर है। इससे यहां अंतिम संस्कार में दिक्कत हों रही है। वहीं अल्केश्वर घाट के घनी आवासीय बस्ती के बीच होने के कारण स्थानीय निवासी यहां कोरोना संक्रमित शवों केअंतिम संस्कार का विरोध कर रहे थे। स्थानीय निवासियों का कहना था कि कोरोना संक्रमित शवों को परिजन पूर्ण रूप से नहीं जला रहे हैं। अधजले शवों के अंगों को कुत्ते व सूअर बस्ती के बीच ला रहे हैं। इससे कोरोना संक्रमण का भय बना हुआ है। लोगों की आपत्ति पर प्रशासन ने इन दोनों घाटों को कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के मुक्त कर दिया था। केवल आईटीआई घाट पर ही कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा था। अब भक्तियाना के निवासियों ने भी यहां कोरोना संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार पर आपत्ति जताई है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि यहां हर रोज बड़ी संख्या में शवों के अंतिम संस्कार से क्षेत्र में गंध व धुआं फैल रहा है। स्थानीय निवासियों का कहना है कि कोरोना संक्रमित सभी शवों का अंतिम संस्कार केवल आईटीआई घाट पर न किया जाए। स्थानीय निवासियों ने किसी वीरान स्थान पर शवों के अंतिम संस्कार किए जाने की मांग की थी। एसडीएम श्रीनगर रविंद्र बिष्ट ने बताया कि आईटीआई घाट पर सभी व्यवस्थाएं जुटाई गई हैं। अब केवल आईटीआई घाट पर ही कोरोना संक्रमित शवों का अंतिम संस्कार किया जाएगा। अंतिम संस्कार कीे सामग्री की उपलब्धता की सूचना के लिए मॉर्चरी व कोविड अस्पताल में फ्लैक्स लगया गया है। इससे पीड़ित परिजनों को सामग्री जुटाने में दिक्कत नहीं होगी। हिन्दुस्थान समाचार /राज