कांग्रेस का लोकतंत्र बचाओ का नारा जनता से धोखा : बंशीधर भगत
कांग्रेस का लोकतंत्र बचाओ का नारा जनता से धोखा : बंशीधर भगत
उत्तराखंड

कांग्रेस का लोकतंत्र बचाओ का नारा जनता से धोखा : बंशीधर भगत

news

देहरादून, 27 जुलाई (हि.स.)। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि कांग्रेस लोकतंत्र की हत्या की अपराधी है। ऐसे में कांग्रेस का लोकतंत्र बचाओ का नारा देना जनता के साथ केवल धोखा है। सोमवार को भगत ने एक वक्तव्य में कहा कि कांग्रेस के हाथ, लोकतंत्र की हत्या और हज़ारों मासूमों की मौत से रंगे हुए हैं। कांग्रेस जहां देश में आपातकाल लगाने व उस दौरान हज़ारों लोगों की प्रताड़ना से मौत के पाप से रंगे हैं। देश में एक नहीं अनेक बार निर्वाचित व पूर्ण बहुमत की सरकारों को बर्खास्त करने का काला इतिहास भी कांग्रेस से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि अधिनायक वाद कांग्रेस नेतृत्व के रक्त में है और पार्टी में केवल एक परिवार की तानाशाही चलती है। जिस पार्टी में अंदरूनी लोकतंत्र भी न हो वह जब लोकतंत्र बचाओ की बात करती है तो उसमें कुटिलता साफ़ दिखाई देती है। भगत ने कहा कि यह खोखला नारा वर्तमान में कांग्रेस का आंदोलन राजस्थान सहित देश के विभिन्न भागों में पार्टी नेतृत्व के ख़िलाफ़ उठ रहे विद्रोही स्वरों से जनता का ध्यान हटाने की कोशिश है। जनता इस बात को समझ रही है और इसीलिए कांग्रेस का सोशल मीडिया अभियान भी फ्लॉफ शो साबित हुआ है। भगत ने कहा कि इस समय कांग्रेस बिखराव की ओर है। राजस्थान में जो हो रहा है, वह कांग्रेस के अंदर के बिखराव व अधिनायक वाद के ख़िलाफ़ विद्रोह का प्रमाण है। इससे पहले मध्यप्रदेश व कर्नाटक आदि राज्यों में कांग्रेस नेतृत्व के ख़िलाफ़ हुए विद्रोहों को सबने देखा है। अब राजस्थान के अलावा कुछ अन्य प्रांतों में भी कांग्रेस नेतृत्व के ख़िलाफ़ स्वर उभरने लगे हैं। ऐसे में परेशान कांग्रेस नेतृत्व जनता का ध्यान बांटने के लिए आंदोलन का नाटक कर रहा है। उन्होंने कांग्रेस से सवाल किया कि अब जब मामला राजस्थान का है तो कांग्रेस उत्तराखण्ड सहित देश में अन्य स्थानों पर क्यों प्रदर्शन कर रही है। इसके अलावा मामला उच्च न्यायालय व उच्चतम न्यायालय में भी चल रहा है। इस सबके के बीच कांग्रेस के मुख्यमंत्री द्वारा राजस्थान के राज्यपाल को जिस तरह धमकी दी गई वह और भी निंदनीय है। भगत ने कहा कि कांग्रेस अपने ही कर्मों से वेंटिलेटर पर आ चुकी है और उसे अपने कर्मों का फल तो भोगना ही पड़ेगा। ऐसे में कांग्रेस का इस समय का आंदोलन भी उसके अपने लिए ही घातक सिद्ध हो रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/ साकेती-hindusthansamachar.in