दुनिया से जाते-जाते बसंती नवानी कर गईं दो लोगों के जीवन में रोशनी

दुनिया से जाते-जाते बसंती नवानी कर गईं दो लोगों के जीवन में रोशनी
by-leaving-the-world-basanti-made-light-in-the-lives-of-two-people

हरिद्वार, 09 जून (हि.स.)। नेत्रदान की शृंखला में मंगलवार रात शिवालिक नगर बीएचईएल हरिद्वार निवासी बसंती नवानी के देहांत के बाद उनके पुत्र सुनील नवानी ने मुस्कान फाउंडेशन की मदद से उनके नेत्रदान कराने की इच्छा को पूर्ण कर सराहनीय कार्य किया है। दुःख की इस घड़ी में नेत्रदान जैसे पुनीत कार्य और समाज को नई रोशनी देने वाली स्वर्गीय बसंती नवानी के पूरे परिवार के सेवा भाव को लोगों ने सराहा। बसंती नवानी के स्वर्गवास के पश्चात उनके परिवार ने मुस्कान फाउंडेशन की अध्यक्ष नेहा मलिक से नेत्रदान के लिए संपर्क किया। नेहा मलिक ने (आई बैंक ) हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट के डॉक्टर इशिका, डॉक्टर शैया,डॉक्टर सिमरन की मदद से उनके निवास शिवालिक नगर बीएचईएल ) पर जाकर नेत्रदान प्रक्रिया पूर्ण कराई। स्वर्गीय बसंती नवानी 78 साल की थी। नेहा मालिक ने परिवार को जानकारी दी कि उनके द्वारा किए गए नेत्रदान से दो नेत्रहीन व्यक्ति दुनिया देख सकेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत