Apple can be grown in low altitude villages also
Apple can be grown in low altitude villages also
उत्तराखंड

कम ऊंचाई के गांवों में भी हो सकेगी सेब की पैदावार

news

गोपेश्वर, 14 जनवरी (हि.स.)। चमोली के उच्च हिमलयी क्षेत्रों के साथ ही अब जिले में 11 से 12 हजार मीटर की ऊंचाई के गांवों में भी काश्तकार सेब की खेती कर सकेंगे। यहां उद्यान विभाग ने जिले में क्लोनल रूट स्टॉक पद्धति से तैयार सेब के पौधों की बागवानी की योजना को मूर्त रूप देने का कार्य शुरू कर दिया है। विभाग ने जिले में स्पर वैराइटी के सेब के उत्पादन के लिये पहले चरण में 31 काश्तकारों के लिये करीब 7130 पौधों के रोपण की योजना पर कार्य शुरू कर दिया है। चमोली जिले में दो हजार मीटर से अधिक ऊचांई वाले क्षेत्रों में काश्तकारों की ओर से सामान्य रूप से सेब की पैदावार उगाई जाती है लेकिन अब उद्यान विभाग की ओर से जिले में 11 से 12 हजार मीटर के मध्य निवास करने वाले काश्तकारों को सेब उत्पादन से जोड़ने की योजना पर कार्य शुरू कर दिया गया है। विभाग ने क्लोनल रूट पद्धति से तैयार सेब के रेड बलॉक्स, जेरोमाइन, रेडगाला, मिंगराटा और ग्रेनीस्मीथ प्रजाति के पौधों का रोपण शुरू कर दिया है। जिससे अब चमोली के निचले इलाकों में भी काश्तकार सेब का उत्पादन कर अपनी आर्थिकी में वृद्धि कर सकेंगे। सहायक विकास अधिकारी (उद्यान) रघुवीर सिंह राणा ने बताया कि जिले में सेब के उत्पादन के लिये जलवायु मुफीद है। ऐसे में सेब के उत्पादन में वृद्धि के लिये क्लोनल रूट स्टॉक पद्धति के पौधों का रोपण काश्तकारों के लिये लाभप्रद साबित होगा। क्लोनल रूट स्टॉक के पौधों से ये है लाभ सामान्य रूप से जहां सेब की पैदावार दो हजार से 25 सौ मीटर की ऊचांई वाले इलाकों में होती है। वहीं सामान्य पौधों में फल का उत्पान पांच से छह वर्ष में शुरू होता है जबकि क्लोनल रूट स्टॉक पद्धति से तैयार पौधे 11 से 12 हजार मीटर की ऊंचाई वाले इलाकों में पैदावार देते हैं तथा इन पौधों से ढाई से तीन वर्ष में उत्पादन शुरू हो जाता है। साथ ही पौधे की ऊचांई कम होने से पौधों के रख-रखाव में काश्तकारों को अधिक मशक्कत नहीं करनी पड़ती है। चमोली जिला उद्यान अधिकारी तेजपाल सिंह ने बताया कि जिला योजना के माध्यम से जिले में क्लोनल रूट स्टॉक पद्धति के सेब के पौधों के रोपण का कार्य किया जा रहा है। जिले में वर्तमान तक 31 काश्तकारों की ओर से 7130 पौधों की मांग की गई है। जिसे लेकर जिले के विभिन्न गांवों में रोपण कार्य शुरू कर दिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश-hindusthansamachar.in