एम्स ने टेली कम्युनिकेशन के तहत दी आठ लाख लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं

एम्स ने टेली कम्युनिकेशन के तहत दी आठ लाख  लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं
aiims-provided-health-services-to-eight-lakh-people-under-telecommunication

ऋषिकेश, 07 जून ( हि.स.)। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश के सोशल आउटरीच सेल ने कोविड-19 महामारी के दौरान आमजन की स्वास्थ्य सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए शुरू की गई टेली कम्युनिकेशन सुविधा के तहत अब तक 8 लाख से अधिक लोगों तक स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई है। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रविकांत के मार्गदर्शन में सोशल आउटरीच सेल ने जनहित के लिए ऑनलाइन कार्यक्रम की शुरुआत की थी। सेल के नोडल अधिकारी डॉ. संतोष कुमार ने बताया कि कोविडकाल में चिकित्सा विशेषज्ञों व आमजन में समुदायिक संवाद नहीं हो पा रहा था। लिहाजा कोविड की आक्रामकता से लोग अपने मानसिक तनाव को चिकित्सकों से साझा नहीं कर पा रहे थे। इसलिए टेली कम्युनिकेशन का मंच तैयार किया गया। उन्होंने बताया कि कोविडकाल की इस अवधि के दौरान 8 लाख से अधिक लोगों से बातचीत की गई है, जिनमें से अधिकांश लोग कोविड-19 पॉजिटिव थे। इस मुहिम में लाडली फाउंडेशन (दिल्ली) और असहाय जन कल्याण सेवा समिति (देहरादून) ने इस सामजिक कार्य में सहभागिता निभाई। एम्स की इस स्वास्थ्य सेवा की मुहिम में तकनीकी सहयोग (जूम, फेसबुक लाइव) प्रदान किया गया। इस सेवा के माध्यम से एम्स ऋषिकेश के विशेषज्ञ रोजाना अपनी सेवाएं दे रहे हैं। देश के लगभग सभी प्रांतों के लोग लाभान्वित हो रहे हैं। इनमें उत्तराखंड के अलावा उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, बेंगलुरु, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, गुजरात, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ आदि क्षेत्रों के लोग मुख्यरूप से शामिल हैं। इन लोगों ने अब तक लगभग 500 तरह के प्रश्नों के उत्तर इस कार्यक्रम के माध्यम से विशेषज्ञों से प्राप्त किए। इस मुहिम में एम्स संस्थान के पल्मोनरी मेडिसिन विभागाध्यक्ष प्रोफेसर गिरीश सिंधवानी, सहायक प्रोफेसर डॉ. लोकेश सैनी, जनरल मेडिसिन विभाग के सहायक प्रोफेसर मुकेश बैरवा आदि ने सहयोग किया। हिन्दुस्थान समाचार /विक्रम