उत्तराखंड में कोरोना नियमों के उल्लंघन के 2,26,466 मामले: डीजीपी

उत्तराखंड में कोरोना नियमों के उल्लंघन के 2,26,466 मामले: डीजीपी
226466-cases-of-violation-of-corona-rules-in-uttarakhand-dgp

-पुलिस ने की कार्रवाई, 373.12 लाख रुपये जुर्माना वसूला गया -राज्य भर में 5463 लोगों को उपलब्ध कराई गई सहायता -159 व्यक्तियों का किया अंतिम संस्कार देहरादून, 07 मई (हि.स.)। उत्तराखंड पुलिस ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान नियमों के उल्लंघन के 2,26,466 मामलों पर कार्रवाई की है। इस दौरान कुल 373.12 लाख का जुर्माना वसूला गया। राज्यभर में कुल 5463 लोगों को बेड,ऑक्सीजन से लेकर भोजन,दवाई सहित अन्य कार्यों में सहायता भी उपलब्ध कराई गई। चार लाख से अधिक मास्क वितरित किए गए। कोरोना से मृत 159 व्यक्तियों का अंतिम संस्कार पुलिस ने किया । शुक्रवार को पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने यह जानकारी मीडिया बीफ्रिंग में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि संक्रमण को रोकने को लेकर मास्क न पहनने को लेकर 1,13,977 चालान, शारीरिक दूरी एवं अन्य कोरोना संक्रमण के नियमों के उल्लंघन को लेकर 1,05,763 उत्तराखंड पुलिस एक्ट की धारा 81/82 के दौरान 6352 कार्रवाई,डीएम एक्ट,एम.एस. एक्ट आईपीसी के अंतर्गत 268 मुकदमों में 374 लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की गई। इस प्रकार कुल 2,26,466 कार्रवाई में 373.12 लाख का जुर्माना वसूला गया। 4,49,116 मास्क बांटे गए। कालाबाजारी रोकने के लिए 158 टीमें डीजीपी ने बताया कि कालाबाजारी रोकने के लिए प्रदेश में 158 टीमें तथा एसटीएफ की 10 टीमें लगाई गई है। ये टीमें लगातार दबिश दे रही हैं। अब तक 787 दबिश दी चुकी है। रेमडेसिविर इंजेक्शन,ऑक्सीजन, दवाइयां सहित अन्य कालाबाजारी के दौरान राज्य में कुल 15 मुकदमे 25 लोगों के विरुद्ध दर्ज किए गए हैं। 100 लोगों को प्लाज्मा डोनेट उन्होंने बताया कि राज्य के सभी जनपदों, वाहनियों में कंट्रोल रूम के जरिए लगभग 100 लोगों को प्लाज्मा डोनेट करने अथवा उपलब्ध कराने में सहायता प्रदान की गई। वहीं 392 लोगों को राशन,भोजन (पका हुआ) वितरित किया गया, जबकि 2898 लोगों को दवाइयां, 1579 लोगों को दूध उपलब्ध कराया गया। 322 लोगों को ऑक्सीजन दिलाने और 172 लोगों को अस्पतालों में बेड उपलब्ध कराने में मदद की गई। राज्य भर में 4964 कॉल का निस्तारण उन्होंने बताया कि सभी 13 जनपदों के कंट्रोल रूमों में 91 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। अब तक 4964 कॉल अटेंड कर सभी का निस्तारण किया गया। 1878 स्थानों पर 7866 पुलिस तैनात उन्होंने बताया कि राज्य,जनपद की सीमाओं के अंदर के बैरियर पॉइंट्स,कर्फ्यू पॉइंट्स, आइसोलेशन, क्वारंटाइन सेंटर, कोविड अस्पताल, श्मशान घाट,रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, वैक्सीनेशन सेंटर्स, मेडिकल स्टोर्स, ऑक्सीजन प्लांट एवं अन्य स्थानों में कुल 1878 स्थानों पर कुल 7866 नागरिक पुलिस, 24 कम्पनी पीएसी के अतिरिक्त एसडीआरएफ की 31 यूनिटों को तैनात किया गया किया गया है। 24,163 पुलिसकर्मियों को वैक्सीन की पहली डोज उन्होंने बताया कि उत्तराखंड पुलिस के 25,094 पुलिसकर्मियों में से 24,163 पुलिसकर्मियों को कोविड वैक्सीन की प्रथम डोज जबकि 23,705 लोगों की दूसरी डोज भी लग चुकी है। महामारी में आठ पुलिसकर्मी की मौत उन्होंने बताया कि महामारी के दौरान पुलिस के कुल 18282 कोविड टेस्ट किए गए। 1981 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए। इनमें से 8 पुलिसकर्मियों की मृत्यु हुई। संक्रमण की दूसरी लहर में लगभग 1454 संक्रमित हुए और 7003 टेस्ट किए गए। द्वितीय लहर में 2 पुलिसकर्मियों की मृत्यु भी हुई। इन पुलिस कर्मियों को स्वास्थ्य कारणों से कोरोना वैक्सीन नहीं लगी थी। हिन्दुस्थान समाचार/राजेश