उत्तराखंड

हल्द्वानी के एसटीएच में भी होगा प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना पीड़ितों का इलाज

news

हल्द्वानी, 23 जुलाई (हि.स.)। उत्तराखंड में कोरोना से संक्रमित होने वालों का आंकड़ा 5300 के पार हो गया है। कोरोना से उत्तराखंड के सभी निवासी भी परेशान हैं। इसी बीच एक राहत भरी खबर सामने आयी है। स्थानीय सुशीला तिवारी हॉस्पिटल (एसटीएच) में अब कोरोना मरीजों का इलाज प्लाज्मा थैरेपी के जरिए भी किया जायेगा। इसके लिए अस्पताल में यह व्यवस्था शुरू भी हो गई है। इसके साथ ही एसटीएच राज्य का पहला हॉस्पिटल बन गया है, जहां प्लाज्मा थैरेपी अपनाई जाएगी। कोविड प्रभारी के नेतृत्व में प्लाज्मा थेरेपी के लिए एक पूरी टीम तैयार कर ली गयी है। एमएस डॉ. अरुण जोशी ने जानकारी दी कि प्लाज्मा निकालने के लिए एफेरेसिस मशीन भी उपलब्ध हो गई है। कोरोना के गंभीर लक्षण (सर्दी, जुकाम या सांस लेने में दिक्कत) होने के बाद स्वस्थ हुए मरीज प्लाज्मा दान कर सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति प्लाजमा डोनेट करना चाहता है तो वह सुशीला तिवारी अस्पताल के मेडिकल सुप्रिंटेंडेंट कार्यालय, ब्लड बैंक या फिर डॉक्टरों से संपर्क कर सकता है। उल्लेखनीय है कि देश के कई बड़े शहरों में इस प्लाज्मा तकनीक को अपनाया जा रहा है। देश में पहली बार प्लाज्मा थैरेपी से 49 वर्षीय कोरोना पीड़ित का सफल इलाज दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स अस्पताल में किया गया था। हिन्दुस्थान समाचार/अनुपम गुप्ता-hindusthansamachar.in