हरिद्वार में कोरोना मरीजों के बढ़ते ही चरमरायी अस्पताल की व्यवस्था
हरिद्वार में कोरोना मरीजों के बढ़ते ही चरमरायी अस्पताल की व्यवस्था
उत्तराखंड

हरिद्वार में कोरोना मरीजों के बढ़ते ही चरमरायी अस्पताल की व्यवस्था

news

हरिद्वार, 23 जुलाई (हि.स.)। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। मरीजों के बढ़ने के साथ ही अस्पतालों की व्यवस्थाएं भी नाकाफी दिख रही हैं। ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज में बनाये गये आइसोलेशन वार्ड में न तो सफाई की पर्याप्त व्यवस्था है और न ही मरीज को सही इलाज मिल पा रहा है। इससे जुड़ा एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किसी मरीज ने बनाया है। इस वायरल वीडियो में मरीज कहते दिख रहे कि डॉक्टर उनका हालचाल नहीं ले रहे हैं।वहीं, शौचालय गंदे पड़े हुए हैं और अस्पताल प्रबंधन की तरफ से मरीजों को खाना तक भी नहीं दिया जा रहा है। वार्ड में जगह-जगह बारिश का पानी भरा हुआ है। महिला और पुरुषों के लिए अलग-अलग शौचालय की व्यस्था भी नहीं है। बिजली की व्यवस्था भी यहां पर नाममात्र की है। इस वायरल वीडियो ने सरकार और स्वास्थ्य विभाग के दमाम दावों की पोल खोल दी है। मरीजों की आरोप है कि इलाज के नाम पर यहां सिर्फ मरीजों को एक कमरे में बंद कर दिया गया है। कोई भी उनकी सुध लेने वाला है। हरिद्वार में कोरोना को काबू करने में स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन के पसीने छूट रहे है। इसी को ध्यान में रखते हुए दो दिन पहले स्वास्थ्य विभाग ने ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज को एक पत्र लिखा था। जिसमें ऋषिकुल प्रशासन को कोरोना संक्रमितों की देखभाल के लिए नर्स और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को नियुक्ति करने का कहा गया था, लेकिन वायरल वीडियो को देखकर नहीं लगता कि ऋषिकुल प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग के इसी पत्र को गंभीरता से लिया। हरिद्वार में अभी तक कोरोना के 981 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें 339 स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं, एक्टिव केसों की बात की जाए तो वो अभी 634 हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत-hindusthansamachar.in