सिद्धपीठ चंद्रवदनी मंदिर में सीमित संख्या जा पाएंगे श्रद्धालु
सिद्धपीठ चंद्रवदनी मंदिर में सीमित संख्या जा पाएंगे श्रद्धालु
उत्तराखंड

सिद्धपीठ चंद्रवदनी मंदिर में सीमित संख्या जा पाएंगे श्रद्धालु

news

नई टिहरी, 14 अक्टूबर (हि.स.)। नवरात्र में इस बार कोरोना का साया रहेगा। उत्तराखण्ड की प्रसिद्ध सिद्धपीठ चंद्रवदनी मंदिर में सीमित संख्या में श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। एक बार में केवल दस श्रद्धालु ही मंदिर में प्रवेश करेंगे। श्रद्धालुओं को मंदिर में बैठकर पूजा की अनुमति नहीं होगी। सिद्धपीठ चन्द्रवदनी कारोबारी समिति द्वारा शारदीय नवरात्र के लिए बनायी गयी व्यवस्था के बारे में जानकारी दी गई है। मंदिर प्रबंधक डीपी भट्ट व उपाध्यक्ष शक्ति प्रसाद भट्ट ने बताया कि नवरात्र में कोविड-19 के तहत जारी गाइडलाइन का पूरा पालन किया जायेगा। श्रद्धालुओं को कोई टीका नहीं लगाया जायेगा और न ही कोई पूजा करवाई जायेगी। श्रद्धालुओं को प्रसाद रूप में रोली मिले कोरे चावल दिये जायेंगे। नवरात्र में किसी तरह का भंडारा व नौरता मंडाण भी नहीं होगा। केवल सुबह- शाम आरती में ढोल-दमाउ की नौबत बजेगी। प्रबन्धक के अनुसार मंदिर परिसर में पुजारियों के अलावा किसी को रात्रि विश्राम की अनुमति नहीं होगी। समिति ने डीएम, एसएसपी व स्थानीय पुलिस को व्यवस्था के लिए पत्र भेजा गया है। मंदिर में 17 अक्टूबर से हरियाली बोने, कलश स्थापना व दुर्गा सप्तसदी का पाठ आदि मंदिर के तीर्थ पुरोहित सेमल्टी लोग करेंगे। पं. शिवप्रसाद, पं. शक्ति प्रसाद, पं. हरि प्रसाद, पं. ज्योति प्रसाद, पं. मोती प्रसाद भट्ट आदि नवरात्र की पूजाओं को संपन्न करेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/मुकुंद-hindusthansamachar.in