व्यापारियों की मांग, प्रदूषण बोर्ड के पंजीकरण की समय सीमा बढ़ायी जाए
व्यापारियों की मांग, प्रदूषण बोर्ड के पंजीकरण की समय सीमा बढ़ायी जाए
उत्तराखंड

व्यापारियों की मांग, प्रदूषण बोर्ड के पंजीकरण की समय सीमा बढ़ायी जाए

news

गोपेश्वर, 27 जुलाई (हि.स.)। चमोली जिले के पीपलकोटी के व्यापार संघ सोमवार को जिलाधिकारी चमोली के माध्यम से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर मांग की है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पंजीकरण की समय सीमा बढ़ायी जाए। व्यापारियों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के चलते चारधाम यात्रा ठीक प्रकार से संचालित नहीं होने से उनका व्यवसाय ठप पड़ा हुआ है। जिस कारण वे आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। उन्हें पंजीकरण करवाने के लिए एक वर्ष का समय दिया जाए। पीपलकोटी व्यापार संघ अध्यक्ष दीपक राणा, अनिल नेगी, अतुल शाह, कुलवेंद्र सिंह, विवेक नेगी आदि का कहना है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से पीपलकोटी के व्यापारियों को नोटिस जारी किया गया है कि वे तत्काल अपना पंजीकरण करवा लें साथ ही होटलों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगवाना भी सुनिश्चित करें। कहा कि वर्तमान समय में कोरोना के चलते उनका व्यवसाय पूरी तरह प्रभावित हुआ है। पीपलकोटी बदरीनाथ धाम व हेमकुंड साहेब यात्रा का पडाव है इस वर्ष हेमकुंड की यात्रा अभी तक सुचारू नहीं हो पायी और बदरीनाथ धाम की यात्रा पर भी अभी ढंग से सुचारू नहीं हुई है ऐसे में उनके व्यापारिक प्रतिष्ठा बंद ही पड़े हुए है।ं ऐसे में प्रदूषण बोर्ड में पंजीयन करवाना व एसटीपी लगाया जाना संभव नहीं है। वहीं एक एसटीपी पर पांच से सात लाख रुपये तक खर्च आता है इस संकट की घड़ी में व्यवसायी कैसे इतनी बड़ी धनराशि खर्च कर पायेगा। व्यापारियों का कहना है कि अन्य शहरों में पालिका के माध्यम से एसटीपी लगायी जा रही है। पीपलकोटी में भी नगर पंचायत की ओर से कार्य गतिमान है। ऐसे में व्यापारियों को एसटीपी लगाने के लिए कहना उचित नहीं है। उन्होंने सीएम से मांग की है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड में पंजीयन करवाने की समय सीमा एक वर्ष के लिए बढ़ायी जाए तथा होटल व्यवसायियों को निजी तौर पर एसटीपी लगाने के लिए बाध्य न किया जाए। हिन्दुस्थान समाचार/जगदीश-hindusthansamachar.in