राज्य बनने के 20 साल बाद भी बदहाल हैं उत्तराखंड के निवासी: किशोर उपाध्याय
राज्य बनने के 20 साल बाद भी बदहाल हैं उत्तराखंड के निवासी: किशोर उपाध्याय
उत्तराखंड

राज्य बनने के 20 साल बाद भी बदहाल हैं उत्तराखंड के निवासी: किशोर उपाध्याय

news

हल्द्वानी, 20 दिसम्बर (हि.स.)। उत्तराखंड के लोगों को वनों पर उनके पुश्तैनी हक-हकूक और अधिकारों के लिये संघर्षरत उत्तराखंड वनाधिकार कांग्रेस ने अपने संगठन को मजबूत करने के लिये संगठनात्मक ढांचे की संरचना करना शुरू कर दिया है। आज हुई बैठक में राज्य के बदहाली को लेकर चिन्ता व्यक्त की गई। इस मौके पर कुमाऊं के भ्रमण पर आए वनाधिकार आन्दोलन के प्रणेता व उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि राज्य को बने हुये 20 वर्ष हो चुके है, लेकिन उत्तराखंडियों की स्थिति सुधरने के बजाय और खराब होती जा रही है। उसका सबसे बड़ा कारण हमारे जल, जंगल और जमीन पर हमारा अधिकारों का न होना है। जंगल हमारे जीवन थे, वे हमसे छीन लिये गए। उन्होंने कहा कि वनाधिकार कानून 2006 को राज्य में अभी तक लागू नहीं किया जा रहा है, जिसमें अरण्यध्गिरिजनों को जंगलों पर उनके सामुदायिक व व्यक्तिगत हक-हकूक देने की तजबीज की गयी है। वनाधिकार कांग्रेस मुफ्त में राज्यवासियों को कुछ नहीं चाहती है, अपितु अपने हक-हकूकों के एवज में क्षतिपूर्ति व हक चाहती है और इसी से उत्तराखंड बचेगा भी और बसेगा भी। उपाध्याय ने मांग की कि हमें क्षतिपूर्ति के रूप में केंद्र सरकार की सेवाओं में आरक्षण दिया जाय। परिवार के एक सदस्य को पक्की सरकारी नौकरी दी जाय। प्रतिमाह एक गैस सिलेंडर, बिजली-पानी निशुल्क दिया जाय। जड़ी-बूटियों पर स्थानीय समुदाय का अधिकार हो। शिक्षा व स्वास्थ्य सेवायें निशुल्क हों। एक यूनिट आवास बनाने के लिए लकड़ी, बजरी व पत्थर निशुल्क दिया जाय। साथ ही जंगली जानवरों द्वारा जनहानि पर 25 लाख रुपये क्षतिपूर्ति व परिवार के एक सदस्य को पक्की सरकारी नौकरी दी जाय।फसल के नुकसान पर प्रतिनाली 5000 रुपये क्षतिपूर्ति दी जाय। गरीब उत्तराखंडियों का शोषण करने वाले प्राधिकरण को समाप्त किया जाय। उपाध्याय ने कहा कि वनाधिकार कांग्रेस के ढांचे व मुद्दों को हर घर तक ले जाने के लिये आज प्रदेश संयोजन समिति एवं कुछ जिला संयोजन समिति की घोषणा की जा रही है। जिसमें राजेन्द्र सिंह भंडारी, प्रेम बहुखंड़ी, दीपक बलुटिया,हुकम सिंह कुंवर,पुष्कर दुर्गापाल, राजेन्द्र सगोई,अर्जुन गहरवार, राजेन्द्र प्रसाद रतूडी, केदार पलड़िया आनंद उपाध्याय, अंशुल श्रीकुंज, जगपाल सिंह सैनी, सुरेंद्र रांगड़, राकेश सिंह नेगी, बीना जोशी को रखा गया है। राम पांडेय, महामंत्री (संगठन) बनाए गए हैं। जिला संयोजक की भी घोषणा कर दी गई है। अमित नेगी कोटद्वार, विनोद कार्की पिथौरागढ़, सुरेश गौरी, यू.एस.नगर,दीपक जोशी, चंपावत, मनोज खुल्बे नैनीताल के संयोजक होंगे। हिन्दुस्थान समाचार/अनुपम गुप्ता-hindusthansamachar.in