मां गंगा के सम्मान के लिए जेल जाने को तैयार 'आप', प्रेसवार्ता के दौरान फाड़ा नोटिस
मां गंगा के सम्मान के लिए जेल जाने को तैयार 'आप', प्रेसवार्ता के दौरान फाड़ा नोटिस
उत्तराखंड

मां गंगा के सम्मान के लिए जेल जाने को तैयार 'आप', प्रेसवार्ता के दौरान फाड़ा नोटिस

news

हल्द्वानी, 15 अक्टूबर (हि.स.)। उत्तराखंड सरकार द्वारा आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष को भेजे नोटिस के जवाब में गुरुवार को आप के प्रदेश सह-प्रभारी राजीव चौधरी ने हल्द्वानी में एक प्रेस वार्ता की। दौरान उन्होंने नोटिस को फाड़ते हुए कहा, आम आदमी पार्टी ऐसे नोटिसों से नहीं डरती है और मां गंगा के सम्मान को वापस लाने के लिए वो लड़ते रहेंगे जिसके लिए अगर उनको लाठी खानी पड़े, या जेल जाना पड़े तो उसके लिए भी वो तैयार हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह बेनकाब हो गई और जिस हिंदुत्व के दम पर वो आज तक दावा करते रहे, वो छलावा साबित हुआ हैय़। 2017 के चुनाव में भाजपा ने उत्तराखंड की जनता से वादा किया था कि सरकार में आते ही माँ गंगा को उसका खोया हुआ सम्मान वापिस देंगे, परन्तु भाजपा पिछले लगभग चार सालों से उत्तराखंड की जनता से धोखाधड़ी कर रही है और मामले को टालते हुऐ आ रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गंगा के आस्तित्व पर खामोश बैठे हैं तथा उनके नेता अपनी राजनीति चमकाते रहे हैं और इस बात को साबित कर रहे हैं कि उनकी करनी और कथनी का दूर दूर तक कोई सरोकार नहीं। 2017 के चुनावों में इसी मुद्दे पर लड़ने वाली बीजेपी के लिए कहीं मां गंगा के आस्तित्व को सरकार बनते ही 24 घंटे में नहर से गंगा का दर्जा देने वाली बात 15 लाख वाले जुमले की तरह ही साबित हुई है। यही नहीं जब आम आदमी कार्यकर्ता, तीर्थ पुरोहित और स्थानीय लोग मां गंगा के सम्मान के लिए उतरे तो ये भाजपा सरकार मां गंगा के सम्मान को नकारने का काम करने लग गई और आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी और अध्यक्ष को सरकार ने नोटिस भेज दिया। आदमी पार्टी का यह कहना है कि मां गंगा के आस्तित्व के लिए लड़ना हमारा नैतिक कर्तव्य भी है और राजनैतिक धर्म भी, माँ गंगा के सम्मान की रक्षा के लिये आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे तो त्रिवेंद्र सरकार तानाशाह होकर नोटिस देगी और किसी भी हद तक जा सकती है। मां गंगा के आस्तित्व के लिए आम आदमी पार्टी तब तक लड़ती रहेगी जब तक सरकार इसको नहर के दर्ज से मां गंगा का नाम नहीं दे देते। हिन्दुस्थान समाचार/अनुपम गुप्ता-hindusthansamachar.in